Mainpuri Bypoll: कार्यकर्ताओं से बोले शिवपाल यादव, 'छोटे नेताजी' के नाम से बुलाए जाएंगे अखिलेश

Shivpal Yadav
ANI
अंकित सिंह । Nov 30, 2022 2:37PM
शिवपाल यादव ने साफ तौर पर कहा है कि अखिलेश यादव को छोटे नेताजी के नाम से बुलाया जाएगा। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हमारी लड़ाई बीजेपी से नहीं बल्कि बीजेपी की सरकार से है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे झगड़े से बचकर जमीन पर काम करते रहे।

मैनपुरी लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी की ओर से खूब प्रचार किया जा रहा है। समाजवादी पार्टी में एकता भी साफ तौर पर दिखाई दे रही है। शिवपाल यादव और अखिलेश यादव दोनों लगातार पार्टी के पक्ष में प्रचार करते दिखाई दे रहे हैं। इसी कड़ी में शिवपाल यादव ने कार्यकर्ताओं से बड़ी अपील की है। शिवपाल यादव ने साफ तौर पर कहा है कि अखिलेश यादव को छोटे नेताजी के नाम से बुलाया जाएगा। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हमारी लड़ाई बीजेपी से नहीं बल्कि बीजेपी की सरकार से है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे झगड़े से बचकर जमीन पर काम करते रहे। 

इसे भी पढ़ें: योगी पर अखिलेश का पलटवार, जो CM पेंडुलम की बातें कर रहे हैं, उन्होंने खुद फिजिक्स नहीं पढ़ी

आपको बता दें कि मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद मैनपुरी लोकसभा सीट खाली हुई थी जिस पर उपचुनाव हो रहे हैं। इस उपचुनाव में समाजवादी पार्टी ने अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है। डिंपल यादव को उम्मीदवार बनाए जाने का समर्थन शिवपाल यादव ने भी किया था। पिछले दिनों शिवपाल यादव ने एक बयान देते हुए साफ तौर पर कहा था कि बहू ने उन्हें फोन किया था और वह मना नहीं कर सके। उन्होंने यह भी कहा कि अब अगर अखिलेश कुछ गड़बड़ करता है तो बहू इसकी गवाह रहेगी। शिवपाल ने साफ तौर पर कहा था कि अब वह 1-2 चुनाव ही लड़ेंगे। आगे लड़कों को ही लड़ना है। शिवपाल और अखिलेश एक साथ हैं तो दूसरी ओर भाजपा इन पर जबरदस्त तरीके से हमलावर है। 

इसे भी पढ़ें: Mainpuri Bypoll: करहल में चुनाव प्रचार करने पहुंचे योगी आदित्यनाथ, चाचा-भतीजे की जोड़ी पर जमकर साधा निशाना

खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिवपाल यादव की तुलना पेंडुलम से की थी। योगी ने कहा था कि चाचा शिवपाल की स्थिति पेंडुलम जैसी हो गई है। उन्होंने कहा था कि बेचारे को पिछली बार कितना बेइज्जत करके भेजा था, कुर्सी तक नहीं मिली, कुर्सी के हैंडल पर बैठना पड़ा था। जीवन में पेंडुलम कभी नहीं बनना चाहिए। पेंडुलम का कोई लक्ष्य नहीं होता है। हालांकि, अखिलेश यादव ने इस पर पलटवार भी किया। सपा प्रमुख ने कहा कि जो मुख्यमंत्री पेंडुलम की बातें कर रहे हैं उन्होंने खुद फिजिक्स नहीं पढ़ी है और वे हम लोगों को पेंडुलम सिखा रहे हैं।

अन्य न्यूज़