मोदी के बयान पर ममता बोलीं- पीएम ने की एकतरफा बातें, राज्यों पर नहीं बना सकते दबाव

मोदी के बयान पर ममता बोलीं- पीएम ने की एकतरफा बातें, राज्यों पर नहीं बना सकते दबाव

पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने (पीएम ने आज सीएम के साथ बैठक में) पेट्रोल, डीजल और घरेलू गैस की बढ़ती कीमतों का मामला राज्यों पर छोड़ दिया, कि राज्यों को कीमतों में कमी करनी होगी। राज्य इसे कैसे करेंगे? आपने कीमतें बढ़ा दीं। क्या आपने अपनी आय देखी? आपने लोगों से एकतरफा बातें कीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मुख्यमंत्रियों के साथ एक बड़ी बैठक की थी। इस बैठक में प्रधानमंत्री ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर मुख्यमंत्रियों से वैट में कमी करने का आह्वान किया है। दरअसल, केंद्र की ओर से एक्साइज ड्यूटी नवंबर में घटाई गई थी। इसके बाद से कई राज्यों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर वैट घटा दिए थे। हालांकि कुछ राज्यों ने नहीं घटाएं थे। उन्हीं राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पीएम ने वैट घटाने के लिए कहा है। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर सियासी संग्राम छिड़ता दिखाई दे रहा है। पहले उद्धव ठाकरे ने केंद्र सरकार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया तो वही अब ममता बनर्जी भी मोदी के बयान पर पलटवार किया है। ममता बनर्जी ने साफ तौर पर कहा कि राज्य पर ऐसे दबाव नहीं बनाया जा सकता है।

पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने (पीएम ने आज सीएम के साथ बैठक में) पेट्रोल, डीजल और घरेलू गैस की बढ़ती कीमतों का मामला राज्यों पर छोड़ दिया, कि राज्यों को कीमतों में कमी करनी होगी। राज्य इसे कैसे करेंगे? आपने कीमतें बढ़ा दीं। क्या आपने अपनी आय देखी? आपने लोगों से एकतरफा बातें कीं। ममता मे आगे कहा कि जहां तक ​​मेरे राज्य की बात है तो आपको पता होना चाहिए कि पिछले 3 साल से मैं पेट्रोल पर 1 रुपये की सब्सिडी देती हूं, हमारी सरकार को 1.5 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। आपने इस पर कुछ नहीं कहा। आप पर हमारा 97,000 करोड़ रुपये बकाया है। अभी भारत सरकार पेट्रोल पर पश्चिम बंगाल सरकार की तुलना में 25% अधिक कर लगा रही है।

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल के दाम पर पीएम मोदी के बयान को लेकर भड़के उद्धव ठाकरे, कहा- भेदभाव कर रही है केंद्र सरकार

ममता ने कहा कि हम कहते हैं कि केंद्र और राज्यों के लिए कर राजस्व 50% होना चाहिए। लेकिन वे नहीं माने। वे 75% इकट्ठा करते हैं। कैसे चलेंगे राज्य? मैं पीएम से कहना चाहूंगी कि वह देखें कि राज्यों पर बोझ डालने के बजाय उन्हें इधर-उधर देखना चाहिए। गौरतलब है कि कि विपक्ष शासित कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत का मुद्दा छेड़ते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उनसे ‘‘राष्ट्र हित’’ में पेट्रोलियम उत्पादों पर से मूल्य वर्धित कर (वैट) घटा कर आम आदमी को राहत देने तथा वैश्विक संकट के इस दौर में सहकारी संघवाद की भावना के साथ काम करने की अपील की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।