UPA के अस्तित्व पर ममता ने उठाए सवाल तो बौखलाई कांग्रेस, कहा- हमारे बिना भाजपा को हराना संभव नहीं

UPA के अस्तित्व पर ममता ने उठाए सवाल तो बौखलाई कांग्रेस, कहा- हमारे बिना भाजपा को हराना संभव नहीं

दिग्विजय ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने आज तक किसी भी ऐसे राजनीतिक दल से समझौता नहीं किया जो धर्म का उपयोग राजनीतिक हथियार के रूप में करता है। आज इस देश में सबसे बड़ा खतरा अगर कोई है तो वो साम्प्रदायिक, नफरत फैलाने वाली विचारधारा की पार्टी है जो आज सत्ता में है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने मुंबई दौरे के दौरान एनसीपी नेता शरद पवार से मुलाकात की। मुलाकात के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए ममता बनर्जी ने कांग्रेस की नेतृत्व वाली यूपीए के अस्तित्व पर ही सवाल उठा दिया। इतना ही नहीं, ममता बनर्जी ने राहुल गांधी पर तंज कसा था। अब ममता बनर्जी पर कांग्रेस की ओर से पलटवार किया गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने तो यह तक कह दिया कि कांग्रेस के बिना ऐसे किसी भी गठबंधन की कल्पना नहीं की जा सकती जो बीजेपी को हरा सके। उन्होंने कहा कि जो हमारे साथ आना चाहते हैं उनका स्वागत है और जो नहीं आना चाहते हैं वह कहीं भी जा सकते हैं। हमारी लड़ाई भाजपा के खिलाफ जारी रहेगी।

दिग्विजय ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने आज तक किसी भी ऐसे राजनीतिक दल से समझौता नहीं किया जो धर्म का उपयोग राजनीतिक हथियार के रूप में करता है। आज इस देश में सबसे बड़ा खतरा अगर कोई है तो वो साम्प्रदायिक, नफरत फैलाने वाली विचारधारा की पार्टी है जो आज सत्ता में है। दिग्विजय ने ममता पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि लगभग सभी पार्टियों ने भाजपा के साथ गठबंधन कर लिया है सिवा कांग्रेस के। कांग्रेस लगातार सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ लड़ती रही है। लेकिन भाजपा के खिलाफ कोई भी गठबंधन कांग्रेस के बिना नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि विचारधारा देश के राजनीतिक दलों की सबसे बड़ी पूंजी है। देश में दो तरह के विचार धाराएं हैं। एक गांधी और नेहरू की विचारधारा है तो दूसरी ओर संघ की विचारधारा है जो धर्म को राजनीति में हथियार की तरह इस्तेमाल करता है। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी से स्वरा भास्कर ने की मुलाकात, कहा- देशद्रोह के आरोपों को तो 'प्रसाद' की तरह बांटा जा रहा

सिब्बल ने कहा: कांग्रेस के बिना संप्रग आत्माविहीन शरीर होगा

ममता के बयान पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस के बिना संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) एक ऐसे शरीर की तरह होगा जिसमें आत्मा नहीं हो। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कांग्रेस के बगैर संप्रग बिना आत्मा के शरीर की तरह होगा। यह समय विपक्षी एकजुटता दिखाने का है।’’ गौरतलब है कि बुधवार को मुंबई में एक कार्यक्रम में तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने कहा था कि राजनीति के लिए लगातार प्रयास आवश्यक हैं। राहुल गांधी पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए उन्होंने कहा था, ‘‘आप ज्यादातर समय विदेश में नहीं रह सकते हैं।’’ यह पूछने पर कि क्या वह चाहती हैं कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार संप्रग के अध्यक्ष बनें, इस पर ममता बनर्जी ने कहा था, ‘‘अब कोई संप्रग नहीं है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।