उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आने से शहीद हुए सैन्यकर्मी का अंतिम संस्कार हुआ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   15:13
उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आने से शहीद हुए सैन्यकर्मी का अंतिम संस्कार हुआ

जम्मू कश्मीर के उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आकर शहीद हुए निशांत शर्मा का सोमवार को सहारनपुर जिले में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उत्तर प्रदेश के मंत्री धर्म सिंह सैनी और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों समेत हजारों लोगों ने जवान को श्रद्धांजलि दी।

सहारनपुर (उत्तरप्रदेश)। जम्मू कश्मीर के उधमपुर में बारूदी सुरंग की चपेट में आकर शहीद हुए निशांत शर्मा का सोमवार को सहारनपुर जिले में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उत्तर प्रदेश के मंत्री धर्म सिंह सैनी और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों समेत हजारों लोगों ने जवान को श्रद्धांजलि दी। शहीद निशांत शर्मा का अन्तिम संस्कार अम्बाला रोड स्थित श्मशान घाट परकिया गया। हाथों मे तिरंगा लिये लोग ‘जब तक सूरज चांद रहेगा निशांत शर्मा तेरा नाम रहेगा’ के नारे लगा रहे थे।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी के बयान पर शिवराज का पलटवार, पूछा- इतना बड़ा झूठ बोलते हुए शर्म नहीं आई?

सेना की एक टीम ने श्मशान घाट पहुंचकर शहीद को श्रद्धांजलि दी। सहारनपुर के शारदा नगर निवासी निशांत शर्मा (30) जम्मू कश्मीर में तैनात थे और पिछले सोमवार को उधमपुर में गश्त के दौरान बारूदी सुरंग की चपेट में आकर गम्भीर रूप से घायल हो गये थे। जम्मू के सैन्य अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था लेकिन रविवार को उनकी मौत हो गयी।

इसे भी पढ़ें: स्वतंत्रता सेनानी मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम पर रखा जा सकता है अयोध्या में मस्जिद का नाम

सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने बताया, ‘‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद के परिजन को 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद और परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी तथा सहारनपुर जिले की एक सड़क शहीद निशांत शर्मा के नाम पर करने की घोषणा की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...