Matrubhoomi: भारत के पहले फील्ड मार्शल जिसके नेतृत्व में भारत ने 1971 की जंग में पाकिस्तान को चटाई थी धूल

Manekshaw
निधि अविनाश । Apr 08, 2022 12:21PM
1914 में फील्ड मार्शल के पांच सितारा रैंक में पदोन्नत होने वाले पहले भारतीय सेना अधिकारी थे। उनका शानदार सैन्य करियर चार दशकों में फैला और उन्होंने पांच अलग-अलग युद्धों में भाग लिया।अमृतसर में जन्में मानेकशॉ के पिता एक डॉक्टर थेऔर वह भी एक डॉक्टर बनना चाहते थे। मानेकशॉ अपनी डॉक्टर की पढ़ाई के लिए लंदन जाना चाहते थे।

3 अप्रैल को भारत में फील्ड मार्शल सैम होर्मसजी फ्रामजी जमशेदजी मानेकशॉ की 108वीं जयंती मनाया जाता है। मानेकशॉ 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष थे। इसके अलावा वह फील्ड मार्शल के पद पर पदोन्नत होने वाले पहले भारतीय सेना अधिकारी थे। सैम मानेकशॉ को प्यार से सैम बहादुर भी कहा जाता था। 1914 में फील्ड मार्शल के पांच सितारा रैंक में पदोन्नत होने वाले पहले भारतीय सेना अधिकारी थे। उनका शानदार सैन्य करियर चार दशकों में फैला और उन्होंने पांच अलग-अलग युद्धों में भाग लिया। अमृतसर में जन्में  मानेकशॉ के पिता एक डॉक्टर थे और वह भी एक डॉक्टर बनना चाहते थे। मानेकशॉ अपनी डॉक्टर की पढ़ाई के लिए लंदन जाना चाहते थे लेकिन उनके पिता ने उन्हें भेजने से इनकार कर दिया।

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: कौन थी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

मानेकशॉ के पिता ने कहा था कि, अकेले विदेश में रहने के लिए उनकी उम्र बहुत कम है। इससे मानेकशॉ काफी नाराज हो गए और एक तरफ से उनके फैसले के खिलाफ आकर उन्होंने आम्री ज्वॉइन करने के लिए परीक्षा दी और सेना में शामिल हो गए। मानेकशॉ को द पायनियर्स के नाम से जाने वाले कैडेटों के पहले बैच के सदस्य के रूप में चुना गया था। भारतीय सैन्य अकादमी में अपने समय के दौरान, उन्होंने कई प्रथम स्थान हासिल किए, जिसमें गोरखा रेजिमेंट में से एक में शामिल होने वाले पहले स्नातक, भारत के थल सेना प्रमुख के रूप में सेवा करने वाले पहले व्यक्ति भी थे। वह फील्ड मार्शल का पद प्राप्त करने वाले पहले व्यक्ति भी थे। 

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: मुगल शासक शाहजहां के प्यार की निशानी है ताजमहल, जानें इस इमारत से जुड़े रोचक तथ्य

साल 1947 के विभाजन के दौरान, सैम मानेकशॉ प्रशासनिक समाधान प्रदान करने और निर्णय लेने में सक्रिय थे। इसके अलावा, उन्होंने 1947 और 1948 में जम्मू और कश्मीर के अभियानों के दौरान खुद को एक लड़ाके के रूप में प्रतिष्ठित किया।मानेकशॉ ने 40 वर्षों तक सेना में सेवा की, पांच युद्ध लड़े: द्वितीय विश्व युद्ध, 1947 का भारत-पाकिस्तान संघर्ष, 1962 का भारत-चीन युद्ध, 1965 का भारत-पाकिस्तान युद्ध और बांग्लादेश मुक्ति युद्ध 1971। मानेकशॉ ने एक बार कहा था कि, अगर कोई आदमी कहता है कि वह मौत से नहीं डरता है, तो वह या तो झूठ बोल रहा है या गोरखा है,"। 94 वर्षीय मानेकशॉ की 27 जून, 2008 को तमिलनाडु के वेलिंगटन में सैन्य अस्पताल में निमोनिया से मृत्यु हो गई, रिपोर्टों के अनुसार, उनके अंतिम शब्द, "मैं ठीक हूँ!" थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़