Matrubhoomi: कौन थी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

Annie Besant
निधि अविनाश । Apr 07, 2022 3:02PM
महज 19 साल की उम्र में एनी ने फ्रैंक बेसेंट के साथ शदी कर ली लेकिन धार्मिक मतभेदों के कारण अपने पति से जल्द ही अलग हो गई। बता दें कि, तलाक के बाद एनी राष्ट्रीय धर्मनिरपेक्ष सोसाइटी (एनएसएस) के लिए एक प्रसिद्ध लेखिका और वक्ता बन गईं।

एनी बेसेंट का जन्म 1 अक्टूबर 1847 को एमिली मॉरिस और विलियम वुड के घर लंदन, यूके में हुआ था और उनकी मौत 20 सितंबर 1933 को मद्रास, भारत में हुई थी। वह एक ब्रिटिश समाजवादी, महिलाओं के अधिकार कार्यकर्ता, थियोसोफिस्ट, वक्ता, लेखक के साथ-साथ आयरिश और भारतीय स्वशासन की समर्थक थीं। महज 19 साल की उम्र में एनी ने फ्रैंक बेसेंट के साथ शदी कर ली लेकिन धार्मिक मतभेदों के कारण अपने पति से जल्द ही अलग हो गई। बता दें कि, तलाक के बाद एनी राष्ट्रीय धर्मनिरपेक्ष सोसाइटी (एनएसएस) के लिए एक प्रसिद्ध लेखिका और वक्ता बन गईं। साल 1898 में एनी ने भारत की यात्रा की और 1902 में उन्हें सेंट्रल हिंदू कॉलेज की स्थापना में मदद मिल। 1907 में वह थियोसोफिकल सोसायटी की अध्यक्ष बनीं और भारतीय राजनीति में शामिल हो गईं और जल्द ही वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गईं।

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: दो वैश्विक महामारियां और दो विश्व युद्ध झेलने के बावजूद पूरे किए प्रकाशन के 200 साल, ये है भारत का सबसे पुराना अखबार

लंदन में एक मीडिल क्लास में जन्मी एनी ने महज 5 साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया था। एनी की मां काफी मेहनती थी और अपने परिवार को चलाने के लिए हैरो स्कूलमें लड़कों के लिए बोर्डिंग हाउस चलाती थी। एनी को अच्छी शिक्षा मिले इसके लिए उनकी मां देखभाल करने के लिए अपने दोस्त एलेन मैरियट के पास ले गई। 20 साल की उम्र में एनी ने 26 साल के पादरी फ्रैंक बेसेंट से शादी की। एनी हमेशा उन कारणों के लिए लड़ती थी जिन्हें वह सही समझती थी। वह दो बच्चों की मां थी और वह अपने दोनों बच्चों से संपर्क रखती थी। बेसेंट एक शानदार सार्वजनिक वक्ता थीं। 

प्रथम महिला राष्ट्रपति के रूप में एनी बेसेंट

एक आयरिश मूल की महिला, एनी बेसेंट, 1917 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता सत्र की अध्यक्षता करने वाली भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष बनीं। वह महान महिला थीं जिन्होंने देश को बनाने के लिए भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।अपने पति से अलग होने के बाद, वह अपने थियोसोफी से संबंधित धार्मिक आंदोलन के माध्यम से भारत आईं, जिसके लिए वह बाद में एक नेता बनीं। वह 1893 में भारत आने के बाद भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गहराई से शामिल हुईं और उन्होंने यहां बसने का फैसला किया। वह भारत में सामाजिक कार्यों के लिए चलाए गए अपने कई अभियानों में सफल रहीं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़