मायावती ने गरीबी का उठाया मुद्दा, बोलीं- वोट के खातिर सरकार छिपा रही आंकड़े

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 22, 2019   12:53
मायावती ने गरीबी का उठाया मुद्दा, बोलीं- वोट के खातिर सरकार छिपा रही आंकड़े

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि वोट या इमेज (छवि) की खातिर उन्हें छिपाये रखना है। क्या देश को ऐसा ही चौकीदार चाहिए?

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार बढ़ती बेरोजगारी एवं गरीबी, श्रमिकों की दुर्दशा और किसानों की बदहाली संबंधी सरकारी आंकड़े वोट की खातिर छिपाये हुए है। मायावती ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर हमला बोला और तंज कसते हुए कहा कि राफेल सौदे की गोपनीय फाइल यदि चोरी हो गई तो गम नहीं, किन्तु देश में रोजगार की घटती दर और बढ़ती बेरोजगारी एवं गरीबी, श्रमिकों की दुर्दशा, किसानों की बदहाली आदि के सरकारी आंकड़े पब्लिक (सार्वजनिक) नहीं होने चाहिये। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने किया साफ, मायावती नहीं हमारे नेतृत्व में बनेगी केंद्र में सरकार

उन्होंने कहा कि वोट या इमेज (छवि) की खातिर उन्हें छिपाये रखना है। क्या देश को ऐसा ही चौकीदार चाहिए? बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा के मंत्री और नेतागण पीएम मोदी की देखादेखी ’चौकीदार’ बन गये हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) जैसे लोग बड़ी दुविधा में हैं कि क्या करें? जनसेवक/योगी रहें या अपने को चौकीदार घोषित करें। उन्होंने कहा कि बीजेपी वाले चाहे जो फैशन करें, बस संविधान-कानून के रखवाले बनकर काम करें, जनता बस यही चाहती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।