मेरठ : मवाना में मोबिल ऑयल की दुकान में लगी भीषण आग,3 युवक जिंदा जले

मेरठ : मवाना में मोबिल ऑयल की दुकान में लगी भीषण आग,3 युवक जिंदा जले

मेरठ के मवाना में सोमवार की सुबह एक मोबिल आयल की दुकान में शार्ट शर्किट से भीषण आग लग गई। इस दर्दनाक हादसे में तीन लोगों की जिंदा जलने से मौत हो गई। एसएसपी, डीएम भी मौके पहुंच गए थे।

मेरठ,मवाना में सोमवार की सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया। कस्बे में सुभाष चौक के पास सोमवार दोपहर एक मोबिल आयल की दुकान में भीषण आग लग गई। आग की विकराल लपटों और डिब्बों के विस्फोट से इलाके में हड़कंप मच गया। देखते-देखते पूरी दुकान जलने लगी। विकराल आग लपटों ने तीन लोगों को अपनी आगोश ले लिया। आग में व्यापारी के बेटे और दो नौकर जिंदा जल गए। घटना की सूचना पर डीएम के. बालाजी और एसएसपी प्रभाकर चौधरी भी मौके पर पहुंचे। 2 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया और तीनों के शवों को बाहर निकाला जा सका। आग से तीन दुकानें जलकर खाक हो गईं। लाखो रूपए का सामान जलकर राख हो गया। आग लगने की वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है।

मवाना, सुभाष चौक निवासी सतीश कुमार की मोबिल आयल की दुकान है। सोमवार सुबह करीब 11 बजे दुकान में आग लग गई।सोमवार सुबह से ही तेज हवा चल रही है ऐसे में तेज हवा के चलते मवाना में आग आसपास की दुकानों तक फैल गई। आग इतनी विकराल थी की आग ने पास में साइकिल की शॉप को भी चपेट में ले लिया। जिसके बाद तीसरी हार्डवेयर की दुकान भी आग की चपेट में आ गई। इन्हीं के ऊपर कोचिंग सेंटर भी था। मोके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह दुकान मालिक सतीश के एक बेटे ईशान को बचा लिया। जबकि दूसरा बेटा राजा (25 साल) , दुकान पर काम करने वाला नौकर शादाब (25 साल) निवासी मवाना और नौकर रोहित निवासी (26 साल) रामबाग, मवाना की झुलसकर मौत हो गई।

         सूचना पर सीओ मवाना उदय प्रताप व सीएफओ संतोष राय भी मौके पर पहुंचे। आग बुझाने के लिए दमकल की 6 गाड़ियां लगाई गईं। दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका है। पुलिस ने आसपास की 15 से अधिक दुकानों को खाली करा लिया गया था। अधिकारीयों द्वारा आग की घटना पर आसपास की दुकानें भी बंद कर दी गई।  आग की सूचना पर सड़क पर सैकड़ों लोग जमा हो गए जिससे बीच सड़क पर वाहनों की लंबी लाइन लग गई। सूचना पर मवाना फायर स्टेशन के अलावा मेरठ सिटी से भी दमकल की 6 गाड़ियां पहुंची थीं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।