मिलिए कश्मीर की इंजीनियरिंग टॉपर बिस्मा काज़ी से जो अब है दिल्ली की IPS ऑफिसर

मिलिए कश्मीर की इंजीनियरिंग टॉपर बिस्मा काज़ी से जो अब है दिल्ली की IPS ऑफिसर

कश्मीर की रहने वाली बिस्मा काजी इस वक्त दिल्ली में बतौर आईपीएस कमान संभाली हुई है। वह दिल्ली में कश्मीर की पहली IPS लेडी ऑफिसर हैं। हैदराबाद से ट्रेनिंग करने के बाद बिस्मा की पहली पोस्टिंग बतौर एसीपी सुभाष प्लेस में हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक, बिस्मा का छोटा भाई भी यूपीएससी की तैयारी में जुटा हुआ है।

कश्मीर में पली बढ़ी बिस्मा काजी ने आज जो कामयाबी हासिल की है वह काफी काबिले तारीफ है। बचपन से स्कूल की टॉपर रही बिस्मा काजी बीई इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट है। बता दें कि बिस्मा की किस्मत तब बदली जब साल 2017 के यूपीएससी रिजल्ट में उनका नाम आया और तब से बिस्मा की एक अलग पहचान बनना शुरू हो हुई।

इसे भी पढ़ें: एस्ट्राजेनेका के ट्रायल में त्रुटि! विशेषज्ञों ने उठाए कोविड-19 के टीके पर सवाल

कौन है बिस्मा काजी?

कश्मीर की रहने वाली बिस्मा काजी इस वक्त दिल्ली में बतौर आईपीएस कमान संभाली हुई है। वह दिल्ली में कश्मीर की पहली IPS लेडी ऑफिसर हैं। हैदराबाद से ट्रेनिंग करने के बाद बिस्मा की पहली पोस्टिंग बतौर एसीपी सुभाष प्लेस में हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक, बिस्मा का छोटा भाई भी यूपीएससी की तैयारी में जुटा हुआ है। इंजिनियर की पढ़ाई कर चुकी बिस्मा को यूपीएससी बनने के लिए उनकी मां ने उन्हें प्रेरित किया था। मां की सुनने के बाद बिस्मा ने साल 2015 में दिल्ली का सफर अकेले तय किया फिर जुट गई यूपीएससी की तैयारी में। बिस्मा ने जामिया से ओरिएंटेड कोर्स किया और उसके बाद वापस अपने घर कश्मीर लौट आई। बता दें कि बिस्मा ने यूपीएससी की तैयारी बिना कोचिंग के पूरी की। कश्मीर में हर वक्त बिगड़ते हालात के बीच बिस्मा के पिता ने उन्हें प्री, मैन्स का इंटरव्यू को पूरा करवाया।

जून 2017 की वो शाम!

 बता दें कि कश्मीर में हमेशा ही इंटरनेट बंद रहता है जिसके कारण बिस्मा को रिजल्ट का पता लगाना काफी मुश्किल हो रहा था। लेकिन दिल्ली में जामिया में रह रही बिस्मा की दोस्त ने रिजल्ट बताया जिसमें उनका रैंक 115 आया। यह सुनने के बाद बिस्मा के घर में खुशी की लहर उठ पड़ी। पिता, मां काफी खुश हुए। आईपीएस बनने के बाद बिस्मा ने अपने करियर में 8 साल की किडनैप बच्ची को परिवार से मिलाया। बता दें कि अब बिस्मा से दिल्ली के कई इलाकों से लड़किया मिलने आती है जिन्हें बिस्मा यूपीएससी की टिप्स भी देती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।