मध्‍य प्रदेश में होगी अब माइक्रो कंटेनमेंट एरिया की नीति लागू

मध्‍य प्रदेश में होगी अब माइक्रो कंटेनमेंट एरिया की नीति लागू

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राय: यह देखने में आ रहा है कि पॉजिटिव हुए मरीजों के साथ परिजन अस्पताल आते हैं। इससे परिजनों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ता है। यदि परिजन भी संक्रमित हो गए तो मरीज की देखभाल कौन करेगा।

भोपाल। मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गांव या शहर के किसी मौहल्ले में कुछ घरों में संक्रमण है तो उस क्षेत्र को माइक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाकर संक्रमण को उस क्षेत्र तक रोकना और वहीं समाप्त करना होगा। ऐसे माइक्रो कंटेनमेंट एरिया में रह रहे परिवारों की आवश्यकताओं को घरों में ही पूरा करने की व्यवस्था की जाए ताकि वे घरों से नहीं निकलें। यह सहयोग अत्यंत आवश्यक है। इसलिए मध्‍य प्रदेश में अब माइक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाने की नीति भी इस लड़ाई में सम्मिलित की जा रही है।  

 

इसे भी पढ़ें: बीना स्थित भारत-ओमान रिफाइनरी में अस्पताल के निर्माण कार्य की समीक्षा

 मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राय: यह देखने में आ रहा है कि पॉजिटिव हुए मरीजों के साथ परिजन अस्पताल आते हैं। इससे परिजनों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ता है। यदि परिजन भी संक्रमित हो गए तो मरीज की देखभाल कौन करेगा। अत: निवेदन है कि कोरोना पेशेंट को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद वार्ड में बिल्कुल न जाएं। इससे आप स्वयं संक्रमित हो जायेंगे, जिससे संकट और गंभीर होगा। इस समय संकट घटाने में आपसे सहयोग की अपेक्षा है।

 

इसे भी पढ़ें: MP में लोक निर्माण विभाग बना रहा ऑक्सीजन वाले 10 हजार बेड के अस्थाई कोविड केयर

उन्होंने इस दौरान यह भी कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति लगातार बनी रहे और उसमें वृद्धि हो इसके लिए हरसंभव प्रयास जारी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और, भारत सरकार का पूरा सहयोग इसमें मिल रहा है। वायुसेना के विमानों से खाली टैंकरों को गंतव्य तक भेजा जा रहा है, ताकि समय बचे और टैंकर भरकर जल्द से जल्द सड़क मार्ग से पहुँचे। ऑक्सीजन रेल से भी आए, इसकी व्यवस्था भी की गई है। रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने का हरसंभव प्रयास जारी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम कोशिशों में कोई कमी नहीं छोड़ेंगे। हम सब मिलकर लड़ेंगे और इस लड़ाई को जीतेंगे।

 

इसे भी पढ़ें: मानव सेवा ही माधव सेवा की तर्ज पर भोपाल में भाजपा बना रही 1000 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इन कठिनाइयों वाले समय में जीवनयापन के लिये भी आवश्यक व्यवस्थाएं की जा रही है। मध्य प्रदेश सरकार ने तीन माह का राशन नि:शुल्क देने का फैसला किया है। भारत सरकार ने भी मई और जून दो माह का राशन नि:शुल्क देने निर्णय लिया है। इसके साथ शहरी और ग्रामीण स्ट्रीट वेंडर्स के खाते में भी एक-एक हजार रूपए डालने का निर्णय लिया गया है। किसानों के खाते में मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना निधि की एक किस्त भी शीघ्र ही डाली जाएगी। उन्‍होंने कहा कि जनता को राहत देने के हरसंभव उपाय लगातार जारी रहेंगे।  हमें मिलकर इस लड़ाई को लड़ना है। जो रणनीति हमने बनाई है यदि हम उसका अनुसरण करते हैं तो यह विश्वास है कि कोरोना हारेगा और हम जीतेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।