मंत्रियों ने की मुख्यमंत्री के आदेश की अवहेलना, वैक्सीनेशन महाअभियान 2.0 के दौरान भोपाल में ही बैठे रहे आधा दर्जन मंत्री

Shivraj cabinet
प्रतिरूप फोटो
सुयश भट्ट । Aug 25, 2021 5:47PM
बेहतर क्रियान्वयन के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आदेश जारी हुए कहा था कि 25 और 26 अगस्त को सभी मंत्री अपने अपने प्रभार के जिलों में रहेंगे लेकिन मंत्रियों ने मुख्यमंत्री के आदेश को धता बताया है। आज आधा दर्जन से ज्यादा मंत्री राजधानी भोपाल स्थित बंगलो पर बैठे रहे ।

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने 25 और 26 तारीख को प्रदेश स्तरीय वैक्सीनेशन महाअभियान 2.0 की शुरुआत की है। जिसके तहत प्रदेशभर के ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीनेट करने का लक्ष्य रखा गया है। इसी कड़ी में शिवराज सिंह चौहान ने आदेश देते हुए कहा था कि सभी मंत्रियो को अपने प्रभारी जिले में रहकर जनता को वैक्सीन के प्रति जागरूक कर उन्हें घर निकलवाकर वैक्सीनेट करना होगा।

इसे भी पढ़ें:कमलनाथ ने लिए मिर्ची बाबा ने रखी विशेष पूजा, पूजा में लोटा गिरने पर बीजेपी ने कसा तंज 

दरअसल बेहतर क्रियान्वयन के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आदेश जारी हुए कहा था कि 25 और 26 अगस्त को सभी मंत्री अपने अपने प्रभार के जिलों में रहेंगे लेकिन मंत्रियों ने मुख्यमंत्री के आदेश को धता बताया है। आज आधा दर्जन से ज्यादा मंत्री राजधानी भोपाल स्थित बंगलो पर बैठे रहे जिसपर कांग्रेस ने चुटकी ली है।

वहीं युवक कांग्रेस मीडिया के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने मंत्रियों के प्रभार क्षेत्र न जाकर भोपाल स्थित बंगलों में चुटकी लेते हुए कहा कि शिवराज सिंह प्रदेश के पहले बेचारे मुख्यमंत्री हैं जिन बेचारे की उनके मंत्री ही नहीं सुनते, मंत्री आरामगाह से बाहर निकलना नहीं चाहते इसलिए वो बंगलों और कोठियों पर आराम कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:बढ़ती मंहगाई को लेकर मध्यप्रदेश महिला कांग्रेस खोलेगी बीजेपी सरकार के खिलाफ मोर्चा,रणनीति हुई तय 

आपको बता दें कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए सरकार महाअभियान चला रही है। लेकिन इस महाअभियान पर सरकार के ही कुछ लोग पलीता लगाने में तुले हुए हैं। बताया जा रहा है कि जबलपुर के कैंट विधानसभा क्षेत्र के रानी अवंती बाई के वार्ड नंबर 69 में बनाए गए वैक्सीनेशन सेंटर में जहां 1 दिन पहले ही जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग ने मिलकर रानी अवंती बाई के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को वैक्सीनेशन सेंटर के लिए चुना था। लेकिन जब लोग टीका लगाने के लिए इस सेंटर में पहुंचे तो सेंटर पर ताला लटका हुआ मिला। सुबह 9 बजे से वैक्सीन लगाने पहुंचे लोगों को भारी निराशा का सामना करना पड़ा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़