विदेशों में कट्टपंथी तत्वों से भारतीय राजनयिकों की सुरक्षा के लिए विदेश मंत्रालय ने उठाया ये बड़ा कदम

 S Jaishankar
विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि हाल में ऐसे कुछ मामले हुए हैं जहां कट्टरपंथी तत्वों ने विदेशों में भारतीय राजनयिक परिसरों में तोड़फोड़ करने की कोशिश की है, लेकिन इस तरह के प्रयासों के खिलाफ पर्याप्त उपाय किए गए हैं।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि हाल में ऐसे कुछ मामले हुए हैं जहां कट्टरपंथी तत्वों ने विदेशों में भारतीय राजनयिक परिसरों में तोड़फोड़ करने की कोशिश की है, लेकिन इस तरह के प्रयासों के खिलाफ पर्याप्त उपाय किए गए हैं। कुछ भारतीय मिशनों के बाहर खालिस्तान समर्थक समूहों के प्रदर्शनों की रिपोर्ट के बीच विदेश मंत्रालय का यह बयान आया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि भारत विदेशों में अपने राजनयिकों और राजनयिक परिसरों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है जिसमें वे रहते हैं और काम करते हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश के भिण्ड में हादसा! सिंध नदी में नाव पलटी, 10 को पानी से सुरक्षित निकाला, 2 लापता

अमेरिका और अन्य मिशनों में खालिस्तानी समर्थक समूहों द्वारा तोड़फोड़ की रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर बागची ने कहा, “हम यह सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय अधिकारियों और मेजबान सरकारों के साथ मिलकर काम करते हैं कि पर्याप्त सुरक्षा प्रदान की जाए।

इसे भी पढ़ें: विश्वास और मित्रता के साथ इजराइल-भारत के संबंध हो रहे प्रगाढ: जयशंकर और लैपिड

हाल के कुछ ऐसे उदाहरण हैं जहां कट्टरपंथी तत्वों ने विदेशों में राजनयिक परिसरों में तोड़फोड़ करने और मिशन के कामकाज को बाधित करने की कोशिश की है।” उन्होंने कहा कि ऐसी कोशिशों के खिलाफ पर्याप्त उपाय किए गए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़