मिजोरम सरकार को असम सरकार और जनता से माफी मांगनी चाहिए: दिलीप सैकिया

dilip saikia
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव एवं सांसद दिलीप सैकिया ने मंगलवार को कहा कि मिजोरम सरकार को असम सरकार और असम की जनता से दोनों राज्यों की सीमा को लेकर हुए हिंसक सघर्ष में पांच पुलिसकर्मियों की मौत के मामले में माफी मांगनी चाहिए।

नयी दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव एवं सांसद दिलीप सैकिया ने मंगलवार को कहा कि मिजोरम सरकार को असम सरकार और असम की जनता से दोनों राज्यों की सीमा को लेकर हुए हिंसक सघर्ष में पांच पुलिसकर्मियों की मौत के मामले में माफी मांगनी चाहिए। असम के मंगलदोई से सांसद ने एक वीडियो भी साझा किया जिसमें कथित तौर पर ‘‘मिजो लोग’’ घटना के बाद सोमवार को जश्न मनाते दिखाई दे रहे हैं। सैकिया ने संवाददाताओं से कहा,‘‘ मिजोरम की पुलिस ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर कल जो किया, वह निंदनीय है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने असम-मिजोरम सीमा पर हिंसा की जांच की मांग की, मौके पर जाएगी पार्टी की समिति

एक वीडियो सामने आया था, जिसमें मिजोरम के लोग असम के पुलिसकर्मियों के मारे जाने का जश्न मनाते दिखाई दे रहे हैं। मैं असम की जनता और पुलिस पर इस बर्बरतापूर्ण हमले की निंदा करता हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह वीडियो फर्जी नहीं है, तो सरकार को लोगों से माफी मांगनी चाहिए।’’ गौरतलब है कि असम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद के सोमवार को अचानक हिंसक संघर्ष में तब्दील हो जाने से कम से कम पांच पुलिसकर्मियों की मौत हो गई और एक पुलिस अधीक्षक समेत 60 अन्य घायल हो गए।

इसे भी पढ़ें: पेगासस के खिलाफ अमित शाह के आवास के बाहर कांग्रेस का प्रदर्शन, दिल्ली पुलिस ने अनिल चौधरी को हिरासत में लिया

सैकिया ने कहा,‘‘ इस प्रकार की घटनाएं भारतीय राष्ट्रीयता की भावना को हतोत्साहित करेंगी। दोनों राज्यों के बीच सीमा का मुद्दा दशकों पुराना है, लेकिन इस प्रकार की घटना पहली बार हुई है। मिजोरम सरकार को असम सरकार और उसकी जनता से माफी मांगनी चाहिए।’’ सांसद ने कहा कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस संबंध में बयान दिया है और उसी भावना को दिमाग में रखते हुए दोनों राज्य सरकारों को साथ बैठ कर कोई सौहार्दपूर्ण समाधान निकालना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़