PM मोदी और शाह पर बरसे कन्हैया कुमार, बोले- हिंदू-मुसलमान में पैदा कर रहे हैं टकराव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 29, 2020   15:42
PM मोदी और शाह पर बरसे कन्हैया कुमार, बोले- हिंदू-मुसलमान में पैदा कर रहे हैं टकराव

जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर देश में हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच टकराव पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) आग में तेल डालने का काम कर रहा है।

औरंगाबाद। जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर देश में हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच टकराव पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) आग में तेल डालने का काम कर रहा है। वह महाराष्ट्र के परभणी के पाथरी में मंगलवार को सीएए और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ रैली को संबोधित कर रहे थे। राकांपा के विधान पार्षद अब्दुल्ला दुर्रानी ने इसका आयोजन किया था। 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल बताएं, भारत को तोड़ने की चाह रखने वालों का समर्थन क्यों कर रहे : नड्डा

कुमार ने आरोप लगाया, ‘‘मोदी और शाह ने गुजरात चुनावों के दौरान हिंदू और मुस्लिमों के बीच टकराव पैदा करने की कोशिश की थी। अब वही हथकंडा वे देश में आजमा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि नागरिकों को धार्मिक टकरावों को परे रखना चाहिए और बेरोजगारी तथा अर्थव्यवस्था की बदहाल स्थिति को लेकर मौजूदा सरकार से सवाल पूछना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: CAA को लेकर कन्हैया का निशाना, बौखलाया तड़ीपार, साहेब बेकरार, हर कोने में शाहीन बाग तैयार

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘सीएए के जरिए सरकार देश भर में भड़की आग में तेल डालने का काम कर रही है ।’’ जेएनयूएसयू के पूर्व नेता ने आरोप लगाया कि देश में विद्यमान समस्याओं के बारे में जब भी कोई सरकार से सवाल करता है तो वह उलटे उनकी नागरिकता पूछते हैं। कुमार ने कहा कि सीएए लोगों को नागरिकता देने के बजाए उनकी नागरिकता छीन लेगा।

इसे भी देखें: JNU छात्र आंदोलन पर क्या बोले कन्हैया कुमार और डी राजा, देखिए खास रिपोर्ट





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।