पूर्व नौसेना प्रमुख और INS विराट के पूर्व कामांडिंग आफिसर ने खारिज किए PM के आरोप

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 10 2019 9:23AM
पूर्व नौसेना प्रमुख और INS विराट के पूर्व कामांडिंग आफिसर ने खारिज किए PM के आरोप
Image Source: Google

पूर्व नौसेना प्रमुख एल रामदास और विराट के पूर्व कामांडिंग आफिसर ने मोदी के आरोप को खारिज किया।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस आरोप को लेकर बृहस्पतिवार को बड़ा विवाद पैदा हो गया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने युद्धपोत आईएनएस विराट का इस्तेमाल ‘निजी टैक्सी’ की तरह किया था। पूर्व नौसेना प्रमुख एल रामदास और विराट के पूर्व कामांडिंग आफिसर ने मोदी के आरोप को खारिज किया। वहीं, इस आरोप को लेकर भाजपा और कांग्रेस के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला। कांग्रेस का आरोप है कि मोदी ‘आदतन झूठे’ हैं जिन्होंने भारतीय वायुसेना के विमान को ‘अपनी टैक्सी’ बना लिया है। उधर, भाजपा की ओर से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पलटवार करते हुए कहा कि ‘कामदार’ ने भारतीय नौसेना बेड़े का इस्तेमाल आतंक पर वार में किया जबकि ‘नामदार’ निजी कारणों से उनका इस्तेमाल करते थे।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: सुरक्षा कारणों से लक्षद्वीप में रखा गया था INS विराट: लक्षद्वीप के पूर्व प्रशासक

मोदी अकसर नामदार का इस्तेमाल गांधी परिवार के लिये करते हैं, जबकि कामदार का प्रयोग देश के लिए कठिन मेहनत करने वालों के लिए करते हैं। गौरतलब है कि बुधवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने एक पुरानी खबर का हवाला देते हुए आरोप लगाया था कि पूर्व प्रधानमंत्री ने आईएनएस विराट का इस्तेमाल निजी टैक्सी की तरह किया और उनके मित्र तथा रिश्तेदार छुट्टियां मनाने जाते वक्त युद्धपोत पर मौजूद थे। मोदी के दावे को खारिज करते हुए लक्षद्वीप के तत्कालीन प्रशासक वजाहत हबीबुल्ला ने कहा कि दिवंगत प्रधानमंत्री और उनकी पत्नी कावराती में द्वीप समूह विकास प्राधिकरण की दो दिनी बैठक में शामिल होने आये थे और आधिकारिक काम पूरा होने के बाद वे परिवार और अन्य अतिथियों के पास बंगाराम द्वीप समूह पर चले गये थे।

उन्होंने कहा कि उनकी (गांधी) छुट्टियों का आधिकारिक कामकाज से कोई लेना-देना नहीं था। प्रधानमंत्री (मोदी) को इस तरह के बयान देने से पहले तथ्यों की जांच करनी चाहिए। वहीं, तत्कालीन प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान पोत के कमांडिंग ऑफीसर रहे वाइस एडमिरल (सेवानिवृत्त) विनोद पसरीचा ने कहा कि वर्ष 1987 में गांधी के आधिकारिक दौरे के समय सभी प्रोटोकॉलों का पालन किया गया। उन्होंने कहा कि इस दौरान गांधी के दोस्त और पत्नी सोनिया के रिश्तेदार मौजूद नहीं थे। वाइस एडमिरल (सेवानिवृत्त) पसरीचा ने कहा कि यह दावा पूरी तरह से गलत है। वहीं, मुंबई में पूर्व वरिष्ठ नौसेना अधिकारी आई सी राव ने भी आईएनएस विराट को लेकर प्रधानमंत्री मोदी के दावे को खारिज किया। 



इसे भी पढ़ें: राजीव गांधी को लेकर मोदी की टिप्पणी अपमानजनक और गलत है: वाघेला

इस बीच, कांग्रेस ने कहा कि मोदी आदतन झूठे हैं और भारतीय वायुसेना के विमानों को अपनी ‘निजी टैक्सी’ बना लिया है। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि भारतीय नौसेना के वाइस एडमिरल (अवकाश प्राप्त) विनोद पसरीचा ने स्पष्ट कर दिया है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी आईएनएस विराट पर आधिकारिक यात्रा के सिलसिले में आये थे न कि अवकाश पर। हालांकि, एक अन्य पूर्व नौसेना कमांडर (सेवानिवृत्त) वीके जेटली ने ट्वीट किया कि राजीव और सोनिया गांधी ने आईएनएस विराट का इस्तेमाल बंगाराम द्वीप समूह पर छुट्टियां मनाने के लिए यात्रा के लिए किया था। भारतीय नौसेना के संसाधनों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया। मैं गवाह हूं। मैं उस समय आईएनएस विराट पर तैनात था।

दक्षिणी नौसेना कमांडर रहे पूर्व नौसेना प्रमुख रामदास ने एक बयान में कहा किआईएनएस विराट पर किसी विदेशी ने यात्रा नहीं की थी और राजीव गांधी तथा उनकी पत्नी सभी आधिकारिक प्रोटोकॉल के पालन के बाद युद्धपोत पर सवार हुए थे। उन्होंने कहा कि (पूर्व) प्रधानमंत्री राजीव गांधी और श्रीमती गांधी ने लक्षद्वीप जाने के लिए आईएनएस विराट पर अपनी यात्रा त्रिवेन्द्रम से शुरू की थी। (पूर्व) प्रधानमंत्री राष्ट्रीय खेल पुरस्कार वितरण के लिए मुख्य अतिथि के तौर पर त्रिवेन्द्रम में मौजूद थे। उन्होंने कहा कि मैं आईडीए (द्वीप समूह विकास प्राधिकरण) की बैठक की अध्यक्षता करने के लिए आधिकारिक ड्यूटी पर लक्षद्वीप जा रहा था। यह बैठक लक्षद्वीप और अंडमान में होती है। एडमिरल रामदास ने कहा कि उनके साथ कोई विदेशी नहीं था। मैं कोचीन स्थित दक्षिणी नौसेना कमान के फ्लैग आफीसर कमांडिंग इन चीफ के तौर पर आईएनएस विराट पर मौजूद था।

इसे भी पढ़ें: तीनों सेनाओं का दुरूपयोग करने वाली कांग्रेस, सेना के मुद्दे पर घडियाली आंसू बहा रही: सीतारमण

उधर, मुंबई में पूर्व वरिष्ठ नौसेना अधिकारी आई सी राव ने प्रधानमंत्री मोदी के इस दावे को खारिज किया कि राजीव गांधी के प्रधानमंत्री रहते गांधी परिवार ने आईएनएस विराट का इस्तेमाल निजी टैक्सी के रूप में किया था। वाइस एडमिरल (सेवानिवृत्त) आई सी राव ने कहा कि इस तरह के दावों के कारण, ऐसे लोगों (मोदी) के सच को भी झूठी सूचना के रूप में देखा जाएगा। उन्होंने कहा कि बहुत गलत बात है कि नेता इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। मुझे लगता है कि लगातार इस तरह के दावों के कारण सच्ची सूचना को भी झूठ के रूप में देखा जाएगा। भोपाल में संवाददाताओं से बात करते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पूर्व प्रधानमंत्री गांधी को शहीद बताया लेकिन कहा कि इसका मतलब यह नहीं कि हम उनकी सरकार के कुशासन, भ्रष्टाचार और नीतियों के बारे में बात नहीं करेंगे। मोदी की आलोचना करते हुए राकांपा प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में कहा कि प्रधानमंत्री को ऐसे व्यक्ति के बारे में कोई टिप्पणी करना शोभा नहीं देता जो अब जीवित नहीं है।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video