Monkeypox In India | अब डराने लगा है मंकीपॉक्स! केरल में दर्ज की गयी पहली मौत, राजस्थान-दिल्ली सहित कई राज्यों में नये मामले

Monkeypox
ANI
रेनू तिवारी । Aug 02, 2022 9:32AM
राजस्थान में मंकीपॉक्स का नया मरीज मिलने के साथ ही भारत में मंकीपॉक्स के कुल सात सामले हो गये हैं जिसमें से एक की मौत भी हो चुकी हैं। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, राजस्थान में भी मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मरीज मिला।

कोरोना वायरस ने जो तबाही मचाई है उससे देश अभी तक उभर नहीं पाया है अब अब नये मंकीपॉक्स जैसे वायरस का खतरा विश्व के सामने मंडराने लगा हैं। मंकीपॉक्स को लेकर कई तरह की गाइडलाइन फॉलो की जा रही है लेकिन बावजूद इसके दिन प्रतिदिन मंकीपॉक्स के नये मामले सामने आ रहे हैं। राजस्थान में मंकीपॉक्स का नया मरीज मिलने के साथ ही भारत में मंकीपॉक्स के कुल सात सामले हो गये हैं जिसमें से एक की मौत भी हो चुकी हैं। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, राजस्थान में भी मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मरीज मिला। उन्होंने बताया कि राज्य में 20 वर्षीय एक युवक को पिछले चार दिनों से बुखार और शरीर पर दाने होने की शिकायत के बाद एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इसे भी पढ़ें: CWG 2022: भारतीय टेबल टेनिस टीम ने नाइजीरिया को हराकर बनाई फाइनल में जगह, 3-0 से जीता मुकाबला

राजस्थान में मंकीपॉक्स का पहला मामला

राजस्थान में मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मामला सामने आया है। राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के अधीक्षक डॉ. अजीत सिंह ने बताया कि बीमारी के लक्षणों वाले 20 वर्षीय व्यक्ति को यहां के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उसके नमूने पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे गए हैं। रविवार देर रात युवक को किशनगढ़ से रेफर कर दिया गया। उन्होंने कहा कि उन्हें मंकीपॉक्स के मामलों के लिए बनाए गए विशेष वार्ड में निगरानी में रखा गया है। डॉ सिंह ने कहा युवक पिछले चार दिनों से बुखार से पीड़ित है और उसके शरीर पर चकत्ते हैं।

इसे भी पढ़ें: Al-Zawahiri Killed | अमेरिकी ड्रोन हमले में मारा गया अलकायदा का चीफ अल-जवाहिरी, लादेन के बाद दूसरी बड़ी सफलता

दिल्ली में मंकीपॉक्स का दूसरा मामला

इससे पहले भारत में का छठा मामला सामने आया था। दिल्ली में 35 वर्षीय एक नाइजीरियाई व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हुई। वहीं, देश में मंकीपॉक्स से मौत का पहला मामला केरल में दर्ज किया गया। भारत में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने स्थिति पर नजर रखने के लिए एक कार्यबल गठित किया। दिल्ली में सोमवार को मंकीपॉक्स का दूसरा मामला दर्ज किया गया। हालांकि, जिस नाइजीरियाई व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हुई, उसका हाल-फिलहाल में विदेश यात्रा करने का कोई इतिहास नहीं है। मंकीपॉक्स से संक्रमित मिले नाइजीरियाई व्यक्ति को सरकारी एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जो राष्ट्रीय राजधानी में इस संक्रमण के इलाज के लिए नोडल अस्पताल है। 

दिल्ली में नाइजीरियाई व्यक्ति हुआ मंकीपॉक्स का शिकार 

नाइजीरियाई व्यक्ति पिछले पांच दिनों से बुखार से जूझ रहा है और उसके शरीर पर दाने भी हैं। उन्होंने बताया कि संक्रमित के हाल-फिलहाल में विदेश या देश में यात्रा करने का कोई इतिहास नहीं है। सूत्रों के अनुसार, नाइजीरियाई व्यक्ति के नमूने पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) भेजे गए थे और सोमवार शाम आई जांच रिपोर्ट से उसमें संक्रमण की पुष्टि हो गई। उन्होंने बताया कि एलएनजेपी अस्पताल में अफ्रीकी मूल के दो और संदिग्ध मरीजों को भी भर्ती कराया गया है। 

मंकीपॉक्स से केरल में पहली मौत

केरल सरकार ने सोमवार को पुष्टि की कि 30 जुलाई को 22 वर्षीय जिस व्यक्ति की मौत हुई थी, वह मंकीपॉक्स से संक्रमित था। इस तरह देश में मंकीपॉक्स से यह पहली मौत है। राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने तिरुवनंतपुरम में संवाददाताओं से कहा कि एनआईवी, पुणे को भेजे गए नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई और मृतक वायरस के पश्चिम अफ्रीकी स्वरूप से संक्रमित था। विजयन ने कहा कि 22 जुलाई को केरल पहुंचा यह व्यक्ति इससे पहले 19 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में मंकीपॉक्स से संक्रमित मिला था। 

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने एक विज्ञप्ति में कहा, ‘‘उसकी (संबंधित व्यक्ति) तबीयत बिगड़ने के बाद उसे 27 जुलाई को त्रिशूर स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन उसके रिश्तेदारों ने यूएई से मिली जांच रिपोर्ट के बारे में 30 जुलाई को अस्पताल के अधिकारियों को सूचित किया।’’ जॉर्ज ने कहा कि संबंधित व्यक्ति के परिवार के सदस्यों, दोस्तों, एक सहायक और फुटबॉल खेलने वालों सहित 20 लोग उसके साथ उच्च जोखिम श्रेणी के संपर्क में आए। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक उच्चस्तरीय राज्य चिकित्सा बोर्ड द्वारा विस्तृत जांच की जाएगी। जॉर्ज ने रविवार को कहा था कि मरीज युवा है और उसे कोई अन्य बीमारी या स्वास्थ्य समस्या नहीं है तथा इसलिए स्वास्थ्य विभाग उसकी मौत के कारणों की जांच कर रहा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़