देश में कोविड टीकों की अभी तक 20.25 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी है: सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2021   08:28
देश में कोविड टीकों की अभी तक 20.25 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी है: सरकार

मंत्रालय ने कहा कि बुधव़ार को 18-44 आयु वर्ग के 8,31,500 लाभार्थियों को कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक दी गई और टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण एक मई से शुरू होने के बाद से 37 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कुल मिलाकर 1,38,62,428 लोगों ने इसे प्राप्त किया है।

नयी दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि देश में अभी तक कोविड-19 रोधी टीके की 20.25 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। मंत्रालय ने कहा कि बुधव़ार को 18-44 आयु वर्ग के 8,31,500 लाभार्थियों को कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक दी गई और टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण एक मई से शुरू होने के बाद से 37 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कुल मिलाकर 1,38,62,428 लोगों ने इसे प्राप्त किया है।

इसे भी पढ़ें: यास चक्रवात से दूरसंचार ढांचे को मामूली नुकसान, लोगों को स्थानीय भाषा में भेजे गये संदेश: डॉट

मंत्रालय ने कहा कि बिहार, गुजरात, राजस्थान और उत्तर प्रदेश ने 18-44 आयु वर्ग के 10 लाख से अधिक लाभार्थियों को कोविड टीके की पहली खुराक दी है। अंतरिम आंकड़ों के अनुसार, देश भर में अब तक कोविड-19 टीके की कुल 20,25,29,884खुराक दी जा चुकी है। लाभार्थियों में 98,08,901 स्वास्थ्य कर्मी (एचसीडब्ल्यू) शामिल हैं जिन्होंने इसकी पहली खुराक ली है और 67,37,679 एचसीडब्ल्यू ने दूसरी खुराक भी ले ली है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी खुफिया एजेंसियाँ कोविड-19 की उत्पत्ति की जांच बढ़ाएँ: बाइडन

वहीं 1,52,42,964 अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों (एफएलडब्ल्यू) ने पहली खुराक प्राप्त की है और 84,00,950 एफएलडब्ल्यू ने दोनों खुराक ली हैं। 18-44 आयु वर्ग के 1,38,62,428 व्यक्तियों ने पहली खुराक लगवाई है। टीकाकरण अभियान के 131वें दिन बुधवार को टीकों की 17,19,931 खुराक लगाई गईं। मंत्रालय ने कहा कि अस्थायी आंकड़ों के अनुसार, 15,76,982 लाभार्थियों को पहली खुराक दी गई और 1,42,949 को दूसरी खुराक दी गई। मंत्रालय ने कहा कि अंतिम रिपोर्ट देर रात तक पूरी हो जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।