MP में अब तक बनाई जा चुकी डेढ़ लाख PPE किट, प्रतिदिन बन रही हैं 12,000 किट: अधिकारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2020   10:21
MP में अब तक बनाई जा चुकी डेढ़ लाख PPE किट, प्रतिदिन बन रही हैं 12,000 किट: अधिकारी

मध्य प्रदेश औद्योगिक विकास केन्द्र के प्रबंध संचालक कुमार पुरूषोत्तम ने बताया कि अभी तक डेढ़ लाख पीपीई किट बनाई जा चुकी हैं। इनमें से इंदौर और भोपाल में लगभग 75-75 हजार किट भेजी गई हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने दावा किया है कि कोरोना वायरस से जंग लड़ने में मदद कर रहे कोविड-19 योद्धाओं के लिये प्रदेश में प्रतिदिन 12,000 पीपीई (व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण) किट बनाई जा रही हैं, जबकि राज्य में प्रतिदिन 10,000 पीपीई किटों की आवश्यकता है। मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग की एक विज्ञप्ति में कहा गया है, प्रदेश में पीपीई किट आवश्यकता से अधिक मात्रा में उपलब्ध हैं। प्रदेश में प्रतिदिन 10,000 पीपीई किटों की आवश्यकता है, जबकि प्रतिदिन 12,000 किट बनाई जा रही हैं। मध्य प्रदेश औद्योगिक विकास केन्द्र के प्रबंध संचालक कुमार पुरूषोत्तम ने बताया कि अभी तक डेढ़ लाख पीपीई किट बनाई जा चुकी हैं। इनमें से इंदौर और भोपाल में लगभग 75-75 हजार किट भेजी गई हैं। 

इसे भी पढ़ें: इंदौर में कोरोना के 31 नए मामले सामने आए, मृतकों की संख्या बढ़कर 60 हुई 

उन्होंने बताया कि इन्दौर में दानदाता बड़ी संख्या में पीपीई किट की आपूर्ति के लिए आगे आ रहे हैं। पुरूषोत्तम ने कहा कि भोपाल और इन्दौर में लगभग 40,000 पीपीई किट अभी स्टॉक में उपलब्ध हैं और इन्हें आवश्यकतानुसार विभिन्न जिलों में भेजा जा रहा है। मध्य प्रदेश में अभी तक 2,090 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इनमें से अब तक 103 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

इसे भी देखें : 16 May तक बढ़ सकता है Lockdown, Yogi देंगे 15 लाख श्रमिकों को रोजगार 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...