भारत को बदनाम करने की हो रही कोशिश, नकवी बोले- नरेन्द्र मोदी एक ‘जन नेता’ हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 7, 2022   17:15
भारत को बदनाम करने की हो रही कोशिश, नकवी बोले- नरेन्द्र मोदी एक ‘जन नेता’ हैं

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जाति, समुदाय और सांप्रदायिकता की बाधाओं को तोड़कर आम लोगों को देश की प्रगति के प्रयासों में साझेदार बनाया है।

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक ‘‘जन नेता’’ बताते हुए केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को कहा कि ‘‘मोदी को कोसने वाली ब्रिगेड’’ 2014 से प्रधानमंत्री और भारत को बदनाम करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि ‘‘इंडिया फोबिया’’ से ग्रस्त लोग अब ‘‘इस्लामोफोबिया’’ का हौआ बनाकर देश को बदनाम करने की साजिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लेकिन ऐसा करने की कोशिश करने वाले कभी भी अपने ‘‘नापाक मंसूबों’’ में सफल नहीं होंगे। 

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मस्जिद विवाद पर बोले असदुद्दीन ओवैसी, 90 के दशक की नफरत को फिर से जगा रही भाजपा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता नकवी ने कहा कि भारत दुनिया का एकमात्र देश है जहां सभी धर्मों के अनुयायी पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता और संवैधानिक अधिकारों के साथ रहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी एक जन नेता हैं, न कि किसी विशेष जाति, समुदाय, क्षेत्र और धर्म के नेता। इसलिए विकास के प्रति उनकी प्रतिबद्धता सभी का समावेशी सशक्तिकरण सुनिश्चित करने में सफल हो रही है।’’ अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जाति, समुदाय और सांप्रदायिकता की बाधाओं को तोड़कर आम लोगों को देश की प्रगति के प्रयासों में साझेदार बनाया है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी को कोसने वाली ब्रिगेड 2014 से उन्हें (मोदी) और भारत को बदनाम करने की कोशिश कर रही है। लेकिन ऐसा करने की कोशिश करने वाले कभी भी अपने ‘‘नापाक मंसूबों’’ में सफल नहीं होंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: सचिन पायलट का बड़ा आरोप, देशवासियों को ठग रही है भाजपा

नकवी ने कहा, ‘‘सद्भाव और भाईचारे की हमारी ताकत देश के खिलाफ किसी भी सांप्रदायिक साजिश को असफल कर देगी। भारत दुनिया का एकमात्र देश है जहां सभी धर्मों के अनुयायी पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता और संवैधानिक अधिकारों के साथ रहते हैं। ‘अनेकता में एकता’ भारत को ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ बनाती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारा संविधान मौलिक अधिकारों के साथ-साथ मौलिक कर्तव्यों का एक संदेश है। हमारी संवैधानिक प्रतिबद्धता भारत के सांप्रदायिक एवं सामाजिक सद्भाव और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के ताने-बाने को बिगाड़ने संबंधी किसी भी साजिश की अनुमति नहीं देगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।