Manipur Election 2022: नगा महिला संघ ने चुनाव आयोग से की पहले चरण की मतदान तारीख बदलने की मांग, जानें क्यों

Manipur Election 2022: नगा महिला संघ ने चुनाव आयोग से की पहले चरण की मतदान तारीख बदलने की मांग, जानें क्यों

विपक्षी कांग्रेस, ऑल मणिपुर क्रिश्चियन ऑर्गनाइजेशन, मणिपुर इकाई एनपीएफ के अध्यक्ष और वन और पर्यावरण मंत्री अवांगबो न्यूमई, ऑल ट्राइबल स्टूडेंट्स यूनियन मणिपुर और कुकी इंपी मणिपुर ने भी यही मांग की थी। मणिपुर विधानसभा चुनाव दो चरणों में 27 फरवरी और 3 मार्च को 60 विधायकों के चुनाव के लिए होंगे। मतगणना 10 मार्च को होगी।

नगा महिला संघ (एनडब्ल्यूयू) ने चुनाव आयोग (ईसी) से मणिपुर विधानसभा चुनाव के पहले चरण की तारीख 27 फरवरी तिथि को बदलने का आग्रह किया है। राज्य के नगा महिला संगठन संस्था एनडब्ल्यूयू ने कहा कि रविवार ईसाइयों के लिए प्रार्थना का दिन है, जिससे उनके लिए बाहर आना और मतदान करना मुश्किल हो जाएगा। इससे पहले, विपक्षी कांग्रेस, ऑल मणिपुर क्रिश्चियन ऑर्गनाइजेशन, मणिपुर इकाई एनपीएफ के अध्यक्ष और वन और पर्यावरण मंत्री अवांगबो न्यूमई, ऑल ट्राइबल स्टूडेंट्स यूनियन मणिपुर और कुकी इंपी मणिपुर ने भी यही मांग की थी। मणिपुर विधानसभा चुनाव दो चरणों में 27 फरवरी और 3 मार्च को 60 विधायकों के चुनाव के लिए होंगे। मतगणना 10 मार्च को होगी।

इसे भी पढ़ें: मणिपुर में कांग्रेस गोवा मॉडल के जरिये अपने प्रत्याशियों को बचाएगी? निष्ठा की शपथ दिलाई जाएगी

एनडब्ल्यूयू ने कहा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है, जहां सामाजिक बहुलवाद को संविधान द्वारा दृढ़ किया गया है और सिद्धांतों को अक्षरश: बनाए रखना चाहिए। एनडब्ल्यूयू ने कहा कि पहाड़ी जिलों के नौ विधानसभा क्षेत्रों में रहने वाले लोग मुख्य रूप से ईसाई हैं और रविवार को मतदान की तारीख तय करना ईसाई समुदाय के सदस्यों की धार्मिक भावना के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि उनकी भावनाओं का सम्मान करने से संविधान की पवित्रता बनी रहेगी और मतदान की तारीख में बदलाव से राज्य में लोगों के हितों की रक्षा होगी।

इसे भी पढ़ें: Manipur Election 2022: BJP की सहयोगी NPP ने अपना घोषणा पत्र किया जारी, AFSPA को लेकर किया बड़ा वादा

पहले चरण में 38 सीटों पर होगा मतदान

नगा महिला संघ ने कहा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है, जहां सामाजिक बहुलतावाद को संविधान में प्रधानता दी गई है अत: हमें इस सिद्धांत पर अमल करना चाहिए। बता दें कि पहले चरण में विधानसभा की 38 सीटों पर मतदान होना है, जिसमें से नौ सीटें सैकुल, कांगपोकपी, सैतु, टिपाईमुख, थानलोन, हेंगलप, चुराचंदपुर, साईकोट और सिंघाट के पहाड़ी जिलों में हैं, जबकि 29 सीटें घाटी जिलों में हैं। 

ईसाई समुदाय

मुख्य रूप से मणिपुर के एक बड़े हिस्से को कवर करने वाले आदिवासी ज्यादातर ईसाई हैं।  गौरतलब है कि मणिपुर के 30 लाख लोगों में ईसाई आबादी 41.29 फीसदी है, जिसमें से 41.39 फीसदी हिंदू और 8.40 फीसदी मुस्लिम समुदाय से हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।