धार्मिक प्रतीकों वाला शॉल ओढ़कर नवजोत सिंह सिद्धू ने सिखों को किया नाराज, अब मांगी माफी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 30, 2020   14:27
धार्मिक प्रतीकों वाला शॉल ओढ़कर नवजोत सिंह सिद्धू ने सिखों को किया नाराज, अब मांगी माफी

धार्मिक प्रतीकों वाला शॉल ओढ़कर कथित तौर पर सिख समुदाय की भावनाएं आहत करने वाले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने इस व्यवहार के लिए बुधवार को माफी मांग ली।

चंडीगढ़। धार्मिक प्रतीकों वाला शॉल ओढ़कर कथित तौर पर सिख समुदाय की भावनाएं आहत करने वाले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने इस व्यवहार के लिए बुधवार को माफी मांग ली। अकाल तख्त जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सिद्धू के इस आचरण को लेकर पैदा हुए विवाद के बाद मंगलवार को उन्हें माफी मांगने की सलाह दी थी। सिद्धू ने कहा कि अनजाने में सिखों की भावनाओं को आहत करने के लिए वह माफी मांगते हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘श्री अकाल तख्त साहिब सर्वोच्च है। अनजाने में मैंने यदि एक भी सिख की भावना को आहत किया है तो मैं उसके लिए क्षमा मांगता हूं। लाखों लोग अपनी पगड़ी या कपड़ों पर सिख धर्म के प्रतीकों का इस्तेमाल करते हैं।

इसे भी पढ़ें: हेमंत सोरेन सरकार का पूरा हुआ एक साल, भाजपा ने जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने में विफल बताया

यहां तक कि गर्व से टैटू भी बनवाते हैं। एक आदर्श सिख के नाते मैंने भी बिना किसी गलत नीयत के अनजाने में शॉल ओढ़ी।’’ सिखों की सर्वोच्च धार्मिक संस्था के जत्थेदार ज्ञानी ने सिद्धू के आचरण को ‘बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया था। उन्होंने कहा था कि सिद्धू को तत्काल माफी मांगनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने LIVE TV पर लगवाया मॉडर्ना कोविड-19 का टीका,अमेरिकियों से किया टीका लगवाने का अनुरोध 

अमृतसर पूर्व से विधायक सिद्धू ने कथित तौर पर एक शॉल पहनी थी जिसमें धार्मिक प्रतीकों की कढ़ाई की गई थी। कुछ दिन पहले उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल ‘जीतेगा पंजाब’ पर एक वीडियो डाला था जिसमें वह जालंधर के एक गांव में कुछ किसानों के साथ बैठक में वह शॉल ओढ़े नजर आ रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।