मुंबई में छापेमारी के दौरान NCB अधिकारियों पर हमला, तीन गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   16:19
मुंबई में छापेमारी के दौरान NCB अधिकारियों पर हमला, तीन गिरफ्तार

अधिकारी ने बताया कि एनसीबी की एक टीम जैसे ही गोरेगांव में भगत सिंह नगर क्षेत्र में पहुंची तो महिलाओं समेत लगभग 50 लोग वहां एकत्र हुए और इसके बाद हमलावरों ने उन पर हमला कर दिया।

मुंबई। उपनगरीय गोरेगांव में मादक पदार्थ तस्करों के यहां छापेमारी के दौरान स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के अधिकारियों की एक टीम पर 50 लोगों के एक समूह ने कथित तौर पर हमला कर दिया, जिसमें दो अधिकारी घायल हो गये। एनसीबी के एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि रविवार की शाम हुई इस घटना के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एनसीबी के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े और पुलिस अधीक्षक विश्व विजय सिंह समेत पांच सदस्यीय एक टीम छापेमारी के लिए गई थी। 

इसे भी पढ़ें: छापेमारी में एनसीबी ने भारती सिंह के घर से बरामद किया गांजा, बढ़ सकती है पति-पत्नी की मुश्किलें

अधिकारी ने बताया कि एनसीबी की एक टीम जैसे ही गोरेगांव में भगत सिंह नगर क्षेत्र में पहुंची तो महिलाओं समेत लगभग 50 लोग वहां एकत्र हुए और इसके बाद हमलावरों ने उन पर हमला कर दिया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग भीड़ को एनसीबी अधिकारियों पर हमला करने के लिए अन्य को उकसा रहे थे और उन्हें ‘‘अपहरणकर्ता’’ बता रहे थे। वानखेड़े ने हमला कर रही भीड़ को रोकने का प्रयास किया और स्थानीय पुलिस को सूचित किया। 

इसे भी पढ़ें: ड्रग्स केस में कॉमेडियन भारती सिंह और पति हर्ष लिंबाचिया को मिली जमानत

अधिकारी ने बताया कि इस घटना में एनसीबी टीम के दो सदस्य घायल हो गये। इसके बाद एनसीबी टीम के सदस्यों के साथ स्थानीय पुलिस ने तीन हमलावरों को पकड़ लिया और उन्हें गोरेगांव पुलिस थाने ले गई। गिरफ्तार तीन आरोपियों की पहचान यूसुफ शेख, उनके पिता अमीन शेख, और एक विपुल आग्रे के रूप में हुई है।  उन्होंने बताया कि इस मामले में जांच चल रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।