पीएम मोदी ने कहा, जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 22, 2021   19:59
पीएम मोदी ने कहा, जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा,जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत है।प्रधानमंत्री ने कहा कि वह और राष्ट्रपति बाइडन ‘भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा एजेंडा 2030 भागीदारी’ की शुरुआत कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘साथ मिलकर हम निवेश जुटाने में मदद करने, स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकी विकसित करने और हरित भागीदारी को सक्षम बना सकते हैं।

नयी दिल्ली। जलवायु परिवर्तन से मुकाबला करने के लिए अमेरिका की तरफ से आयोजित डिजिटल शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस संबंध में ठोस कदम उठाने की जरूरत है। अमेरिका द्वारा आयोजित इस डिजिटल शिखर सम्मेलन में विश्व के 40 नेताओं ने शिरकत की। मोदी ने शिखर सम्मेलन में कहा, ‘‘जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए हमें तेज गति से, बड़े पैमाने पर और वैश्विक संभावना के साथ ठोस कदम उठाने की जरूरत है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि वह और राष्ट्रपति बाइडन ‘भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा एजेंडा 2030 भागीदारी’ की शुरुआत कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘साथ मिलकर हम निवेश जुटाने में मदद करने, स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकी विकसित करने और हरित भागीदारी को सक्षम बना सकते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: पीएम नरेंद्र मोदी वर्चुअल माध्यम से पश्चिम बंगाल के लोगों को संबोधित करेंगे

जलवायु परिवर्तन से निपटने में भारत के योगदान की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अपनी विकास चुनौतियों के बावजूद स्वच्छ ऊर्जा, ऊर्जा प्रभाविता और जैव विविधता को लेकर हमने कई साहसिक कदम उठाए हैं। उन्होंने कोविड-19 वायरस का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘मानवता वैश्विक महामारी से जूझ रही है और यह कार्यक्रम इस मौके पर हमें याद दिलाता है कि जलवायु परिवर्तन की गंभीर चुनौतियां अभी खत्म नहीं हुई हैं।’’ उन्होंने कहा कि जलवायु जवाबदेह देश के तौर पर भारत सतत विकास का प्रारूप बनाने के लिए भागीदारों का स्वागत करता है। मोदी ने कहा कि वह जलवायु परिवर्तन के समय में जीवन जीने के तरीके में आए बदलाव के महत्व पर जोर देना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘कोविड बाद के समय में अपनी आर्थिक रणनीति तय करने का आधार सतत जीवन चर्या और अपने मूल में लौटने के दर्शन पर आधारित होना चाहिए।’’ उन्होंने डिजिटल जलवायु शिखर सम्मेलन आयोजित करने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन को धन्यवाद दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।