भारत में एचआईवी दवाओं की कोई कमी नहीं है : सूत्र

HIV Medicines
Creative Common LIcences.
गौरतलब है कि एचआईवी मरीजों का एक समूह पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय राजधानी में एआरवी दवाओं की कमी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है।

नयी दिल्ली|  एचआईवी (ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस) की दवाओं की कथित कमी पर प्रदर्शनों के बीच आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि ‘‘एचआईवी से पीड़ित करीब 95 फीसदी लोगों’’ के लिए देशभर में दवाओं का पर्याप्त भंडार है।

उन्होंने बताया कि दिल्ली में एंटीरेट्रोवायरल (एआरवी) दवाओं की कोई कमी नहीं है और कई दवाओं की अगली खेप खरीदने के लिए आपूर्ति के नए ऑर्डर पहले ही दे दिए गए हैं। निजी एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी (एआरटी) केंद्र के समक्ष कभी-कभी यह परेशानी आ सकती है लेकिन नजदीकी केंद्र से तत्काल दवाएं पुन: आवंटित की जाती हैं।

गौरतलब है कि एचआईवी मरीजों का एक समूह पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय राजधानी में एआरवी दवाओं की कमी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़