55 वर्षीय दलित महिला के साथ हुआ सामूहिक बलात्कार, आरोपी अब भी फरार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 13, 2021   11:51
55 वर्षीय दलित महिला के साथ हुआ सामूहिक बलात्कार, आरोपी अब भी फरार

नोएडा में सामूहिक बलात्कार पीड़िता को ढाई लाख रुपए की आर्थिक मदद दी गई है।पुलिस उपायुक्त (डीसीपी)(महिला सुरक्षा) वृंदा शुक्ला ने कहा कि पुलिस मुख्य आरोपी महेंद्र की तलाश कर रही है और उसकी गिरफ्तारी के तीन दिन के अंदर ही इस मामले में अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया जाएगा।

नोएडा (उत्तर प्रदेश)। गौतमबुद्ध नगर जिले के जेवर इलाके में गत शनिवार कथित रूप से सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई 55 वर्षीय दलित महिला की हालत में अब सुधार है और जिला प्रशासन ने शुरुआती आर्थिक मदद के तौर पर उसे ढाई लाख रुपए दिए हैं। इस घटना का मुख्य आरोपी अब भी फरार है और उसकी गिरफ्तारी पर 25,000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है। पुलिस उपायुक्त (डीसीपी)(महिला सुरक्षा) वृंदा शुक्ला ने कहा कि पुलिस मुख्य आरोपी महेंद्र की तलाश कर रही है और उसकी गिरफ्तारी के तीन दिन के अंदर ही इस मामले में अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: फोन पर महिला के साथ 3 पुलिसकर्मियों ने किया अभद्र तरीके से बातचीत, हुए संसपेड

उन्होंने कहा कि वह इस मामले की सुनवाई त्वरित अदालत में किए जाने की अपील करेंगी। डीसीपी ने बताया कि जिला प्रशासन ने अनुसूचित जाति/ जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत पीड़िता को ढाई लाख रुपए की शुरुआती आर्थिक मदद दी है। उन्होंने बताया कि महिला का ऑपरेशन सफल हो गया है और उसकी हालत में सुधार है। डीसीपी ने बताया कि पुलिस बुधवार को महिला का बयान दर्ज करेगी। उन्होंने बताया कि जांच टीम ने घटना से जुड़े साक्ष्य गाजियाबाद के निवाड़ी स्थित फॉरेंसिक लैब में भेज दिए हैं। उल्लेखनीय है कि जेवर थाना क्षेत्र में रहने वाली दलित महिला शनिवार को खेत में घास काटने गई थी, तभी गांव के रहने वाले महेंद्र ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर उसके साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।