हिमाचल में बर्फबारी व बारिश से सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित

हिमाचल में बर्फबारी व बारिश से सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित

मौसम विभाग ने आज राज्य में व्यापक वर्षा व बर्फबारी की संभावना जताई है और छह जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग शिमला के केंद्र निदेशक डॉ. सुरेंद्र पॉल ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से मौसम में बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भारी बारिश व बर्फबारी को लेकर बुधवार को येलो अलर्ट रहेगा।

शिमला। हिमाचल प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के चलते लगातर हो रही बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में बारिश से सामान्य जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। प्रदेश के शिमला, कुल्लू, लाहौल-स्पीति, किन्नौर, चंबा और मंडी जिलों के ऊंची चोटियों पर हिमपात हो रहा है। वहीं मैदानी क्षेत्रों में बारिश हो रही है। 

 

बारिश व बर्फबारी की वजह से तापमान में भारी गिरावट आई है। इस कारण समूचा प्रदेश कड़ाके की ठंड से ठिठुर रहा है। लोग अपने घरों में दुबके हैं। कई इलाके अंधेरे में डूबे हैं तो कुछ सडक मार्गों पर यातायात भी बाधित हुआ है। वहीं, शिमला के साथ लगते कुफरी, फागू के अलावा पर्यटक स्थल नारकंडा, खड़ापत्थर और चौपाल के प्रवेश द्वार खिड़की और चांशल समेत अन्य ऊंची चोटियों पर हिमपात हो रहा है। बर्फबारी के बीच चल रहे वाहन फिर फिसल रहे हैं और ऐसे कुछ वाहन फिसलकर पहाड़ी से टकराएं हैं और कुछ नालियों में जा गिरे हैं।

इसे भी पढ़ें: विश्व किक बाॅक्सिंग चैम्पियनशिप के रजत पदक विजेता ने मुख्यमंत्री से भेंट की

शिमला में हो रही बर्फबारी के चले मुख्य सड़क मार्गों पर फिसलन के कारण अभी तक गाड़ियों की आवाजाही भी प्रभावित हुई है। चौपाल-देहा सड़क मार्ग पर खिड़की क्षेत्र में 2 से 3 इंच बर्फ होने के कारण फिसलन है।  इसी तरह शिमला-रामपुर सड़क मार्ग पर नारकंडा क्षेत्र में 4 से 5 इंच बर्फ होने के कारण फिसलन है ।  शिमला-रोहड़ू सड़क मार्ग पर खड़ापत्थर क्षेत्र में 4 से 5 इंच बर्फ होने के कारण फिसलन भरा है। शिमला-ठियोग सड़क मार्ग पर कुफरी में 2 इंच बर्फ होने से सड़क पर अत्यधिक फिसलन है और गाड़ियां स्किड हो रही है।  शिमला पुलिस ने इन सड़क मार्गों पर यात्रियों से अपनी यात्रा कुछ समय तक स्थगित करने का अनुरोध किया है। अत्यधिक आवश्यकता होने पर सुरक्षित वैकल्पिक मार्ग से यात्रा करने और सावधानीपूर्वक वाहन चलाने की सलाह दी गई है।

इसे भी पढ़ें: एम्स बिलासपुर लाहौल-स्पीति के लोगों को देगा इन्टीग्रेटेड टेली मेडिसिन प्लेटफॉर्म

इस बीच मौसम विभाग ने आज राज्य में व्यापक वर्षा व बर्फबारी की संभावना जताई है और छह जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग शिमला के केंद्र निदेशक डॉ. सुरेंद्र पॉल ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से मौसम में बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भारी बारिश व बर्फबारी को लेकर बुधवार को येलो अलर्ट रहेगा। यह अलर्ट शिमला, मंडी, कुल्लू, लाहौल स्पीति, किन्नौर और चंबा जिला के लिए जारी किया गया है।

इसे भी पढ़ें: जयराम सरकार जो कहती है वो करती है : सुरेश कश्यप

उधर, कुल्लू जिले में जलोड़ी जोत पर भारी बर्फबारी हो रही है और इस कारण इस मार्ग पर यातायात ठप हो गया है। वहीं, बर्फबारी के कारण अटल टनल रोहतांग के लिए भी यातायात बंद है। प्रशासन ने सैलानियों को वहां जाने पर भी रोक लगा दी है। इन दिनों मनाली में विंटर कार्निवाल हो रहा है और इस कारण सैलानी भी भारी संख्या में मनाली पहुंचे हैं। मनाली में भी मंगलवार को हिमपात हुआ और इससे वहां पहुंचे सैलानियों की बर्फ देखने की चाह भी पूरी हुई है। मनाली की सभी चोटियों पर हिमपात होने से घाटी में ठंड भी कड़ाके की पड़ रही है। कुल्लू जिले के अन्य ऊंचे इलाकों पर भी हिमपात हो रहा है और इस कारण समूची कुल्लू घाटी शीतलहर की चपेट में है।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व मे पूरा देश एक साथ कोरोना को हराने के लिए आगे बढ़ रहा है : भाजपा

हालांकि, बर्फबारी होने से पर्यटन कारोबारी भी खुश हुए हैं। कोरोना के कारण मंदी के दौर से गुजर रहे इस व्यवसाय को हिमपात से लाभ हुआ है। बर्फ देखने की चाह में सैलानी पहाड़ों की ओर रुख कर रहे हैं और उनकी बर्फ देखने की चाह भी पूरी हो गई है। इस बार क्रिसमस और न्यू ईयर पर बर्फबारी न होने से सैलानी मायूस हो गए थे। उस समय भी राज्य के सभी प्रमुख पर्यटक स्थलों पर भारी संख्या में सैलानी आए थे। अब बर्फबारी होने के बाद सैलानियों ने फिर से पहाड़ की ओर रुख किया है और इससे पर्यटन कारोबार को लाभ मिला है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...