अब मुंबई पुलिस के खिलाफ किरीट सोमैया ने खोला मोर्चा, FIR दर्ज कराने पहुंचे थाने

अब मुंबई पुलिस के खिलाफ किरीट सोमैया ने खोला मोर्चा, FIR दर्ज कराने पहुंचे थाने
ANI

भाजपा नेता किरीट सोमैया प्राथमिकी दर्ज कराने खार थाने पहुंचे हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "मुंबई पुलिस ने मेरे खिलाफ 23 अप्रैल को मारपीट की एक फर्जी प्राथमिकी प्रसारित की है। उन्होंने बताया, वह यहां अपने ऊपर हुए हमले और प्रसारित हो रही झूठी एफआईआर के खिलाफ मामला दर्ज कराने पहुंचे हैं।

राणा दंपत्ति बनाम ठाकरे की जंग और भी जबरदस्त होती जा रही है। नवनीत राणा और उनके पति दो दिन से जेल में हैं। लेकिन चैन उद्धव सरकार को भी नहीं है। हर दिन शिवसेना के सामने नई चुनौती खड़ी हो रही है। मुंबई से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर ये है कि नवनीत राणा और रवि राणा को सेशन कोर्ट से राहत नहीं मिली है और जमानत याचिका पर अब 29 अप्रैल को सुनवाई होगी। वहीं किरीट सोमैया पर अटैक के मामले में अब नया ट्विस्ट आता दिख रहा है। 

इसे भी पढ़ें: मेरे घर पर हनुमान चालीसा पढ़ो, लेकिन दादागीरी बर्दाश्त नहीं करुंगा: उद्धव ठाकरे

भाजपा नेता किरीट सोमैया प्राथमिकी दर्ज कराने खार थाने पहुंचे हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "मुंबई पुलिस ने मेरे खिलाफ 23 अप्रैल को मारपीट की एक फर्जी प्राथमिकी प्रसारित की है। उन्होंने बताया, वह यहां अपने ऊपर हुए हमले और प्रसारित हो रही झूठी एफआईआर के खिलाफ मामला दर्ज कराने पहुंचे हैं। इससे पहले मीडिया से बात करते हुए सोमैया ने आरोप लगाया, उनके नाम से एक फर्जी एफआईआर दर्ज की गई है। उस एफआईआर पर उन्होंने हस्ताक्षर भी नहीं किए हैं। उन्होंने आरोप लगाया, मुंबई पुलिस एक झूठी एफआईआर प्रसारित कर रही है।

वालसे पाटिल ने कहा- मुंबई पुलिस शानदार काम के लिए जानी जाती है

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने कहा कि महाराष्ट्र की पुलिस को जो अधिकार प्राप्त है वे उस हिसाब से काम कर रही है। मुंबई पुलिस शानदार काम के लिए ही जानी जाती है और आगे भी जानी जाएगी। महाराष्ट्र को अशांत करने की कोशिश हो रही है जो हम सफल नहीं होने देंगे। वालसे पाटिल ने कहा कि मैंने बार-बार स्पष्ट किया है जब से मौजूदा सरकार महाराष्ट्र में आई है तब से विपक्ष खुश नहीं है और वे कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी हालत में मौजूदा सरकार असंगठित करें।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।