बंगाल के विकास और ‘कटमनी’ संस्कृति में से एक को चुनना है: जेपी नड्डा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   18:17
बंगाल के विकास और ‘कटमनी’ संस्कृति में से एक को चुनना है: जेपी नड्डा

नड्डा ने कहा कि भाजपा का लक्ष्य ऐसा पश्चिम बंगाल बनाने की है जहां महिलाएं बिना भय के रह सके और मतुआ समुदाय के विद्यार्थियों को अच्छे जीवन के लिए शिक्षा एवं रोजगार मिले।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में ‘असोल पारिबोर्तोन’ (असली परिवर्तन) के लिए भाजपा की सरकार बनाने पर जोर देते हुए पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने तृणमूल कांग्रेस के मुख्य चुनावी मुद्दे ‘बंगाली अस्मिता’ की खामियों को उजागर करने का आह्वान औरराज्य के लोगों से पूछा कि वे विकासचाहते हैं या ‘कट मनी संस्कृति’। भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा ने ‘लोक्खो सोनार बांग्ला (स्वर्णिम बंगाल बनाने का लक्ष्य) घोषणा पत्र क्राउडसोर्सिंग अभियान’ बृहस्पतिवार को शुरू किया। इसके तहत आगामी विधानसभा चुनाव से पहले पश्चिम बंगाल में दो करोड़ से अधिक लोगों से सुझाव मांगे जाएंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि बंगाली हस्तियों एवं महिलाओं को नजर अंदाज किया गया है और ‘बंगाल का गौरव बहाल किया जाएगा।’’ नड्डा ने कहा कि पार्टी के घोषणा पत्र में मतुआ समुदाय, महिलाओं एवं युवाओं के सामाजिक-आर्थिक सशक्तीकरण पर जोर दिया जाएगा और राज्य की‘‘कट मनी’’ और ‘‘सिंडिकेट’’ संस्कृति को समाप्त किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ‘लोक्खो सोनार बांग्ला’ मुहिम तीन मार्च को शुरू की जाएगी और यह 30 मार्च तक जारी रहेगी। हमारा सभी 294 निर्वाचन क्षेत्रों के दो करोड़ से अधिक लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य है।

नड्डा ने कार्यक्रम की शुरुआत के दौरान कहा, ‘‘30,000 सुझाव पेटियां लगाई जाएंगी। हम सोनार बांग्ला के निर्माण की हमारी कोशिश के तहत आमजन के सुझाव प्राप्त करना चाहते हैं।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा का लक्ष्य पश्चिम बंगाल को विकास के मार्ग पर ले जाना है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी उद्योग, कृषि, स्वास्थ्य एवं धार्मिक पर्यटन का कैसे विकास किया जाए, इसपर लोगों से सुझाव चाहती है। नड्डा ने कहा, ‘‘ अभियान का मकसद राज्य को भ्रष्टाचार, कोयले की तस्करी, सिंडिकेट राज और कटमनी संस्कृति से मुक्त करना है। पश्चिम बंगाल में बहुत क्षमता है लेकिन वर्षों के राजनीतिक हितों की वजह से इसका उपयोग नहीं हुआ। हम राज्य के गौरवमयी दिनों को वापस लाना चाहते हैं।’’ भाजपा अध्यक्ष ने वादा किया कि अगर पार्टी राज्य की सत्ता में आएगी तो वह सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करेगी। नड्डा ने कहा, ‘‘ पश्चिम बंगाल चौराहे पर खड़ा है। उसे फैसला करना है कि वह विकास चाहता है या भ्रष्टाचार एवं कट मनी की संस्कृति के साथ जाना चाहता है। राज्य के विकास के लिए हमें डबल इंजन की सरकार (केंद्र एवं राज्य में एक ही पार्टी की सरकार) चाहिए।’’ भाजपा की पांच चरण में चल रही ‘परिवर्तनत यात्रा’ के अलावा यह ‘लोक्खो सोनार बांग्ला’ जनसंपर्क अभियान है जिसकी शुरुआत भाजपा ने अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले की है। 

इसे भी पढ़ें: मुजफ्फरनगर के ग्रामीणों ने कहा- RLD से कोई लेना-देना नहीं, बीजेपी को दे रहे हैं वोट

नड्डा ने कहा कि भाजपा का लक्ष्य ऐसा पश्चिम बंगाल बनाने की है जहां महिलाएं बिना भय के रह सके और मतुआ समुदाय के विद्यार्थियों को अच्छे जीवन के लिए शिक्षा एवं रोजगार मिले। उन्होंने कहा, ‘‘ बंगाल की हस्तियों ने देश को रोशनी दिखाई और आजादी से पहले और बाद में भारत का मार्गदर्शन किया लेकिन उनको नजर अंदाज किया गया। हम स्वामी विवेकानंद , रवींद्र नाथ टैगोर और अन्य की शिक्षाओं एवं आदर्शों के आधार पर बंगाल को नई ऊंचाई पर ले जाएंगे।’’ नड्डा ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत पश्चिम बंगाल में 1.4 करोड़ शौचालयों का निर्माण हुआ और आंकड़े राज्य में महिलाओं की स्थिति को बताते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘जब स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की गई तब कुछ लोगों ने इसकी आलोचना की, लेकिन देखिए कैसे शौचालय बनाने से ग्रामीण इलाकों में महिलाएं सशक्त हुईं।’’ पश्चिम बंगाल की अभिनेत्री पायल सरकार पार्टी प्रमुख जे पी नड्डा की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुईं। इस बीच, भाजपा नेतृत्व ने दावा किया है कि पुलिस ने उत्तर 24 परगना जिले के बैरकपुर में ‘परिवर्तन यात्रा’ की अनुमति नहीं दी है जिसे शाम को नड्डा को भी संबोधित करना है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।