बड़ा खुलासा: पाकिस्तान से तस्करी कर लाए गए 24 बमों से एक था पूर्वी दिल्ली में बरामद हुआ IED

बड़ा खुलासा: पाकिस्तान से तस्करी कर लाए गए 24 बमों से एक था पूर्वी दिल्ली में बरामद हुआ IED

गाजीपुर में टेप से लिपटे आईईडी वाले बैग को स्लीपर सेल द्वारा लगाया गया था। बरामद किए गए विस्फोटकों का वजन लगभग 1.5 किलोग्राम था, जिसमें आरडीएक्स और अमोनियम नाइट्रेट दोनों थे और उनमें उच्च तीव्रता वाले विस्फोट की संभावना थी।

खुफिया एजेंसियों के अनुसार पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर इलाके में बरामद आईईडी पाकिस्तान से भारत में तस्करी कर लाए गए विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था। समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा कि गाजीपुर में टेप से लिपटे आईईडी वाले बैग को स्लीपर सेल द्वारा लगाया गया था। बरामद किए गए विस्फोटकों का वजन लगभग 1.5 किलोग्राम था, जिसमें आरडीएक्स और अमोनियम नाइट्रेट दोनों थे और उनमें उच्च तीव्रता वाले विस्फोट की संभावना थी। उम्मीद की जा रही है कि इस तरह के बम स्लीपर सेल के नेटवर्क के माध्यम से मतदान वाले राज्यों में पहुंच गए हैं। हाल ही में जम्मू-कश्मीर और पंजाब से बरामद की गईं डिवाइसेज को भी उसी खेप का हिस्सा माना जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: IED मिलने के बाद दिल्ली की गाजीपुर फूल मंडी में बढ़ाई गयी सुरक्षा, पुलिस बल तैनात

खुफिया एजेंसियों ने मामले की विस्तृत रिपोर्ट के लिए दिल्ली पुलिस और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के साथ समन्वय किया। एनएसजी इस मामले में दिल्ली पुलिस के साथ अपनी रिपोर्ट साझा करेगी। पिछले कुछ महीनों में सीमावर्ती क्षेत्रों में ड्रोन गतिविधियों में वृद्धि हुई है, कई बार ड्रोन विस्फोटकों को गिराने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं, विशेष रूप से टिफिन बम जिनका पता नहीं चल पाता है और उनका इस्तेमाल चुनाव से पहले या चुनाव के दौरान आतंकी गतिविधियों में किया जा सकता है। वरिष्ठ अधिकारी ने एएनआई से कहा कि ऐसा लगता है कि यह पाकिस्तान से पहुंचाई गई एक खेप का हिस्सा है जो स्लीपर सेल के माध्यम से दिल्ली पहुंचा है। खुफिया एजेंसियां ​​सिंडिकेट में शामिल संदिग्धों पर नजर रख रही हैं। हमने यूपी एटीएस के साथ भी जानकारी साझा की है। 

इसे भी पढ़ें: 26 जनवरी से पहले दिल्ली के गाजीपुर में मिला 3 किलो का IED बम, निष्क्रिय किया गया

कश्मीर में सक्रिय अल कायदा से जुड़े आतंकवादी समूह मुजाहिदीन ग़ज़वत-उल-हिंद (एमजीएच) के नाम से एक टेलीग्राम चैनल के बाद खुफिया और सुरक्षा एजेंसियां ​​​​की निगाहे उस पर बनी हुई है। जिसने आईईडी लगाने की जिम्मेदारी ली है। एक टेलीग्राम चैनल ने दावा किया है कि गाजीपुर में तकनीकी खराबी के कारण विस्फोटक नहीं फटा लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी योजना विफल हो गई है। संदेश को दिल्ली पुलिस के साथ साझा किया गया है और अधिक भीड़ वाले स्थानों पर गश्त बढ़ाने के लिए कहा गया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...