गणतंत्र दिवस परेड में सिर्फ 5,000 लोग हुए शामिल, मास्क और सामाजिक दूरी का रखा गया विशेष ध्यान

Republic Day parade
कोरोना महामारी का असर इस साल की गणतंत्र दिवस परेड पर देखने को मिला जहां महज 5,000 लोग उपस्थित हुए और टीकों की दोनों खुराक लेने के अलावा सभी ने दोहरे मॉस्क पहन रखे थे तथा समारोह स्थल पर ‘दो गज की दूरी’ के नियम का भी पालन किया।

नयी दिल्ली। कोरोना महामारी का असर इस साल की गणतंत्र दिवस परेड पर देखने को मिला जहां महज 5,000 लोग उपस्थित हुए और टीकों की दोनों खुराक लेने के अलावा सभी ने दोहरे मॉस्क पहन रखे थे तथा समारोह स्थल पर ‘दो गज की दूरी’ के नियम का भी पालन किया। कोविड रोधी टीके की दोनों खुराक ले चुके वयस्कों और टीके की कम से कम एक खुराक ले चुके 15 साल से अधिक उम्र के किशोरों को इस समारोह में शामिल होने की अनुमति मिली थी।

इसे भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस: परम वीर चक्र, अशोक चक्र विजेताओं के मार्च पास्ट के साथ हुई परेड की शुरुआत

15 साल से कम उम्र के बच्चों को इसमें शामिल होने की अनुमति नहीं दी गई थी। समारोह स्थल के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बलों की चौकस निगाहबानी रही। कुर्सियों को सामाजिक दूरी का पालन करते हुए लगाया गया था। समारोह में भाग लेने वालों को सफेद रंग की एक टोपी भी दी गई थी जिस पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ लिखा हुआ था। मौजूदा समय में देश कोविड की तीसरी लहर का सामना कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं भारत की पहली महिला राफेल विमान पायलट

भारत में एक दिन में कोविड-19 के 2,85,914 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,00,85,116 हो गई। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में 665 और लोगों की संक्रमण से मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4,91,127 हो गई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़