संग्राम से पहले आज संवाद का सत्र, PPM की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक, शाम 4 बजे होगी NDA की भी अहम मीटिंग

संग्राम से पहले आज संवाद का सत्र, PPM की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक, शाम 4 बजे होगी NDA की भी अहम मीटिंग

सुबह 11 बजे होने वाली बैठक में पीएम सभी दलों के नेताओं के साथ संसद के काम पर चर्चा करेंगे तो दूसरी ओर विपक्ष की तरफ से इस बैठक में सरकार पर तीनों कृषि कानूनों को जल्द वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने, जांच एजेंसियों के कार्यकाल की बढ़ोतरी समेत अन्य मुद्दे को उठाया जाएगा।

संसद के शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले सरकार ने सभी दलों की बैठक बुलाई है। बैठक में सभी दलों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बैठक में हिस्सा लेंगे। सरकार का मकसद शीतकालीन सत्र को शांतिपूर्ण और सुचारू ढंग से चलाना है। सुबह 11 बजे होने वाली बैठक में पीएम सभी दलों के नेताओं के साथ संसद के काम पर चर्चा करेंगे तो दूसरी ओर विपक्ष की तरफ से इस बैठक में सरकार पर तीनों कृषि कानूनों को जल्द वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने, जांच एजेंसियों के कार्यकाल की बढ़ोतरी के अलावा मंहगाई समेत अन्य मुद्दे को उठाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: संसद का शीतकालीन सत्र: अध्यक्ष बिरला 29 नवंबर को विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक करेंगे

शाम को बीजेपी और एनडीए की रणनीतिक बैठक 

इस सर्वदलीय बैठक के बाद दोपहर तीन बजे बीजेपी संसदीय कार्यकारिणी की बैठक होगी। इसके बाद शाम 4 बजे एनडीए की भी अहम बैठक होने जा रही है। माना ये जा रहा है कि इस बैठक में एनडीए सत्र के लिए रणनीति बनाएगी।

संविधान दिवस समारोह का विपक्षी दलों ने किया था बहिष्कार 

संसद के केन्द्रीय कक्ष में 26 नवंबर को लोकसभा सचिवालय द्वारा आयोजित संविधान दिवस समारोह का लगभग सभी विपक्षी दलों ने बहिष्कार किया था। बिरला ने विपक्षी दलों द्वारा कार्यक्रम के बहिष्कार को लेकर ‘‘दुख’’ व्यक्त किया था। कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए बिरला ने कहा था कि वह सदन के सुचारू संचालन को लेकर आम सहमति बनाने के लिए विपक्ष और सत्ता पक्ष के साथ बैठेंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।