INLD की फतेहाबाद रैली में बीजेपी पर भड़का विपक्ष, तेजस्वी बोले- अब कोई NDA नहीं, नीतीश ने की सभी दलों से की एकसाथ आने की अपील

INLD
ANI
अभिनय आकाश । Sep 25, 2022 4:19PM
राजद नेता तेजस्वी यादव ने इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की रैली में कहा कि अब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) नहीं है, शिवसेना, अकाली दल और जद (यू) जैसे भाजपा के सहयोगी दलों ने लोकतंत्र को बचाने के लिए इसका साथ छोड़ दिया है।

केंद्र की बीजेपी सरकार के खिलाफ इंडियन नेशनल लोकदल ने फतेहाबाद सम्मान दिवस रैली का आयोजन किया। इसमें 11 राज्यों के प्रमुख नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। इन दौरान विपक्षी नेताओं के निशाने पर बीजेपी रही। तेजस्वी हो या नीतीश कुमार सभी के निशाने पर बीजेपी रही। चौधरी देवीलाल की 109वीं जयंती पर आयोजित रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम शरद पवार, सीताराम येचुरी और जेडीयू के महासचिव केसी त्यागी ने शिरकत की। 

इसे भी पढ़ें: अदालत ने उद्धव ठाकरे नीत शिवसेना को शिवाजी पार्क में दशहरा रैली के आयोजन की अनुमति दी

राजद नेता तेजस्वी यादव ने इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की रैली में कहा कि अब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) नहीं है, शिवसेना, अकाली दल और जद (यू) जैसे भाजपा के सहयोगी दलों ने लोकतंत्र को बचाने के लिए इसका साथ छोड़ दिया है। पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवी लाल के 109वें जन्मदिन पर आयोजित कार्यक्रम में बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि आज देश की जो स्थिति बनी हुई है वो किसी से छुपी नहीं है। वो(भाजपा) लोग चाहते हैं कि इस देश का सब कुछ समाप्त हो जाए, केवल भाजपा, संघ और उनके कुछ साथी रह जाए। आज हम उन किसानों को धन्यवाद देते हैं जिनके बेटे जवान(फौजी) हैं क्योंकि जवानों ने देश को बचाने का काम किया है। मैं आप लोगों का धन्यवाद करने आया हूं कि किसानों ने किसान आंदोलन कर संघियों को अच्छे से सबक सिखाने का काम किया।

इसे भी पढ़ें: पुणे में PFI की रैली में लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, पुलिस ने 1 आरोपी को हिरासत में लिया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इनेलो की रैली में कहा कि हिंदुओं और मुसलमानों के बीच कोई लड़ाई नहीं है, वह (भाजपा) अशांति पैदा करना चाहती है। मैं कांग्रेस समेत सभी दलों से एकसाथ आने की अपील करता हूं, तभी 2024 के लोकसभा चुनाव में वह (भाजपा) बुरी तरह हारेगी। पिछले चुनावों के दौरान, वे (भाजपा) हमारे उम्मीदवारों को हराने की कोशिश कर रहे थे। केंद्र ने पिछड़े राज्य के लिए जो वादा किया था, वह नहीं हुआ। बिहार में आज 7 पार्टियां एक साथ काम कर रही हैं। उनके पास 2024 जीतने का कोई मौका नहीं है।

अन्य न्यूज़