'लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ' नारे के साथ बोलीं ममता बनर्जी, हर दो महीने में आती रहूंगी

'लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ' नारे के साथ बोलीं ममता बनर्जी, हर दो महीने में आती रहूंगी

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि मैंने शरद पवार से बात की है। यह दौरा सफल रहा। हम राजनीतिक मकसद से मिले थे। लोकतंत्र चलता रहना चाहिए। हमारा नारा है लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ।

नयी दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इन दिनों दिल्ली दौरे पर हैं। इसी बीच उन्होंने नया नारा दिया है। ममता बनर्जी ने कहा कि लोकतंत्र चलते रहना चाहिए। हमारा नारा है- लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ। प्राप्त जानकारी के मुताबिक ममता बनर्जी दिल्ली के दौरे के आखिरी दिन शुक्रवार को एनसीपी चीफ शरद पवार से मुलाकात करने वाली थीं लेकिन उनकी मुलाकात नहीं हो पाई है। हालांकि उन्होंने इस संबंध में जानकारी दी है। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने जावेद अख्तर से की चुनावी नारे 'खेला होबे' पर गीत लिखने की अपील 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ममता बनर्जी ने बताया कि मैंने शरद पवार से बात की है। यह दौरा सफल रहा। हम राजनीतिक मकसद से मिले थे। लोकतंत्र चलता रहना चाहिए। हमारा नारा है लोकतंत्र बचाओ देश बचाओ। हम किसानों के मुद्दों का भी समर्थन करते हैं। हम अब हर 2 महीने में यहां आते रहेंगे।

विपक्षी एकजुटता की कोशिशों में जुटी ममता बनर्जी के 5 दिवसीय दिल्ली दौरे का आज आखिरी दिन है। उन्होंने तृणमूल सांसद अभिषेक बनर्जी के आवास निकलते वक्त यह बात कही। आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, राहुल गांधी, कमलनाथ, आनंद शर्मा, अभिषेक मनु सिंघवी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, गीतकार जावेद अख्तर, अभिनेत्री शबाना आजमी समेत कई नेताओं से मुलाकात की। 

इसे भी पढ़ें: ममता की विपक्षी एकजुटता की कोशिशों के बीच आठवले बोले, अगले लोकसभा चुनाव में 'खेला' नहीं, मोदी का मेला होगा 

ममता बनर्जी ने कोरोना वैक्सीन और बंगाल का नाम बदलने के विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इसके अलावा अपने दिल्ली दौरे के दौरान सड़क परियोजनाओं के विषय पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से ममता मिली थीं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।