भागवत के देशभक्त वाले बयान पर मचा घमासान, ओवैसी ने किया पलटवार

  •  अभिनय आकाश
  •  जनवरी 2, 2021   19:07
  • Like
भागवत के देशभक्त वाले बयान पर मचा घमासान, ओवैसी ने किया पलटवार

जे के बजाज और एम डी श्रीनिवास लिखित पुस्तक ‘मेकिंग आफ ए हिन्दू पैट्रियट : बैकग्राउंड आफ गांधीजी हिन्द स्वराज’ का लोकार्पण करते हुए मोहन भागवत ने यह बात कही। मोहन भागवत का बयान आते ही एआईएनआईएन नेता और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी समते कई राजनीतिक दलों ने इसपर पलटवार किया।

आरएसएस यानी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जिसके प्रमुख हैं मोहन भागवत। मोहन भागवत ने हिन्दुओं को देशभक्त बताया है। उन्होंने कहा कि अगर कोई हिन्दू है तब वह देशभक्त होगा और यह उसका बुनियादी चरित्र एवं प्रकृति है। संघ प्रमुख ने महात्मा गांधी की उस टिप्पणी को उद्धृत करते हुए यह बात कही जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी देशभक्ति की उत्पत्ति उनके धर्म से हुई है। जे के बजाज और एम डी श्रीनिवास लिखित पुस्तक ‘मेकिंग आफ ए हिन्दू पैट्रियट : बैकग्राउंड आफ गांधीजी हिन्द स्वराज’ का लोकार्पण करते हुए मोहन भागवत ने यह बात कही। मोहन भागवत का बयान आते ही एआईएनआईएन नेता और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी समते कई राजनीतिक दलों ने इसपर पलटवार किया।

इसे भी पढ़ें: बंगाल चुनाव से पहले भाजपा और संघ की बैठक, इन मुद्दों पर हो सकती है बात

ओवैसी का पलटवार

असदुद्दीन ओवैसी ने मोहन भागवत के बयान पर ट्वीट करते हुए पूछा कि गांधी जी के हत्यारे गोडसे के बारे में क्या कहेंगे? नेली नरसंहार, 1984 के सिख विरोधी दंगे और 2002 के गुजरात दंगे के जिम्मेदार लोगों पर क्या कहेंगे? ओवैसी ने आगे लिखा कि यह मानना तर्कसंगत है कि अधिकांश भारतीय देशभक्त हैं, भले ही वो किसी को भी मानते हों। लेकिन आरएसएस की बेतुकी विचारधारा एक धर्म के लोगों को अपने आप देशभक्ति का सार्टिफिकेट देती है। जबकि दूसरों को इसे साबित करने में यहां तक कि खुद को भारतीय कहने में अपना पूरा जीवन लगाना पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें: संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले- हिन्दू कभी भारत विरोधी नहीं हो सकते, देशभक्ति उनका बुनियादी चरित्र है

मोहन भागवत ने क्या दिया था बयान

भागवत ने कहा कि जमीन की पूजा, माटी की पूजा भारत वर्ष के सभी लोगों में है। यह किसी न किसी रूप में विद्यमान है। लेकिन गांधी जी ने जो कहा वो गौर करने लायक है। गांधी जी ने कहा कि मेरी देशभक्ति मेरे धर्म से निकलती है। हिन्दू हैं तो देशभक्त होना ही पड़ेगा उसको। उसके मूल में उसके प्रकृति में ये है। हां ऊपर की राख, धूल झाड़कर उसको खड़ा करना पड़ता है। सोया हुआ देशभक्त रहता है, जागरूक देशभक्त रहता है। ये हो सकता है। लेकिन भारत विरोधी ऐसा कोई नहीं रहता है।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


DRDO ने एसएफडीआर प्रौद्योगिकी की मदद से उड़ान का सफल परीक्षण किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 5, 2021   18:19
  • Like
DRDO ने एसएफडीआर प्रौद्योगिकी की मदद से उड़ान का सफल परीक्षण किया

डीआरडीओ ने एसएफडीआर प्रौद्योगिकी की मदद से उड़ान का सफल परीक्षण किया।एसएफडीआर प्रौद्योगिकी के सफल परीक्षण प्रदर्शन से डीआरडीओ को हवा से हवा में मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइलों को विकसित करने में सहायता मिलेगी।

बालासोर (ओडिशा)। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने शुक्रवार को ओडिशा स्थित परीक्षण रेंज से सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट (एसएफडीआर) प्रौद्योगिकी की मदद से उड़ान का सफल परीक्षण किया। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। डीआरडीओ ने कहा कि परीक्षण के दौरान ग्राउंड बूस्टर मोटर समेत सभी उप प्रणालियों ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन किया। एसएफडीआर प्रौद्योगिकी के सफल परीक्षण प्रदर्शन से डीआरडीओ को हवा से हवा में मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइलों को विकसित करने में सहायता मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: चोरी करने के लिए फ्लाइट से करते थे ट्रैवल, यहां पढ़े असल जिंदगी के बंटी-बबली की कहानी

डीआरडीओ के मुताबिक, वर्तमान में चुनिंदा देशों के पास ही यह प्रौद्योगिकी है। उन्होंने कहा कि चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज से शुक्रवार सुबह करीब 10:30 बजे यह परीक्षण किया गया। सूत्रों ने बताया कि परीक्षण के दौरान डीआरडीओ की विभिन्न प्रयोगशालाओं के वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने इसकी निगरानी की। वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ के वैज्ञानिकों और वायु सेना को इस सफल परीक्षण के लिए बधाई दी। सूत्रों ने बताया कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी ने भी उड़ान परीक्षण में शामिल टीम के सदस्यों को बधाई दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


ट्रेनों में जल्द शुरू होगी Content on Demand सर्विस, हाई-स्पीड इंटरनेट के साथ मिलेगी यह सारी सुविधा

  •  निधि अविनाश
  •  मार्च 5, 2021   18:15
  • Like
ट्रेनों में जल्द शुरू होगी Content on Demand सर्विस, हाई-स्पीड इंटरनेट के साथ मिलेगी यह सारी सुविधा

भारत सरकार के रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने ब्रॉडबैंड और वीपीएन सेवाएं प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करते हुए कहा कि बफर-फ्री सेवा सुनिश्चित करने के लिए ट्रेन के कोच के अंदर मीडिया सर्वर स्थापित किया जाएगा। इससे समय-समय पर सामग्री अपडेट होती रहेगी और यात्री बफर-फ्री स्ट्रीमिंग का आनंद ले सकेंगे।

आप जल्द ही अपनी ट्रेन यात्रा के दौरान अपनी पसंदीदा सामग्री का आनंद ले पाएंगे क्योंकि रेल मंत्रालय ने इस महीने से कंटेंट ऑन डिमांड (सीओडी) सेवा शुरू करने की अनुमति दे दी है। इस सेवा के तहत, रेलवे विभिन्न भाषाओं में फिल्मों, समाचारों, संगीत वीडियो आदि की पेशकश करेगा, जिसके दौरान यात्री यात्रा का आनंद ले सकेंगे।

इसे भी पढ़ें: चोरी करने के लिए फ्लाइट से करते थे ट्रैवल, यहां पढ़े असल जिंदगी के बंटी-बबली की कहानी

भारत सरकार के  रेलटेल के सीएमडी पुनीत चावला ने ब्रॉडबैंड और वीपीएन सेवाएं प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करते हुए कहा कि बफर-फ्री सेवा सुनिश्चित करने के लिए ट्रेन के कोच के अंदर मीडिया सर्वर स्थापित किया जाएगा। इससे समय-समय पर सामग्री अपडेट होती रहेगी और यात्री बफर-फ्री स्ट्रीमिंग का आनंद ले सकेंगे। यह सेवा 8,731 ट्रेनों में शुरू की जाएगी, जिसमें 5,723 लोकल ट्रेनें और वाई-फाई से लैस 5,952 से अधिक स्टेशन शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक, रेलटेल ने गुरूवार से अपनी प्रीपेड वाई-फाई सेवा शुरू कर दी है जिसके तहत फिलहाल 4000 रेलवे स्टेशनों पर यात्री हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा का इस्तेमाल कर सकेंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


स्वदेशी वैक्सीन पर विपक्ष की सियासत, बीजेपी बोली- फैलाया रहा कंफ्यूजन

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 5, 2021   18:06
  • Like
स्वदेशी वैक्सीन पर विपक्ष की सियासत, बीजेपी बोली- फैलाया रहा कंफ्यूजन

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि विपक्षी दलों की सरकारें अपने राज्यों में कोरोना वैक्सीन का टीका लगाने से इनकार कर रही हैं। पंजाब, छत्तीसगढ़ और केरल की सरकारों ने कहा है कि वो अपने राज्य के लोगों को को-वैक्सीन का टीका नहीं लगवाएंगे।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी कि देश में कोविड-19 के 1.77 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं। भारत में 16 जनवरी को स्वास्थ्य कर्मियों को टीके लगाए जाने के साथ ही देशव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों को टीके लगाने की शुरुआत दो फरवरी से हुई थी। लेकिन इसके साथ ही वैक्सीन को लेकर सियासत भी देश में जोरो पर है। 

इसे भी पढ़ें: तृणमूल कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन्हें बीजेपी अपने पाले में कर ममता का दुर्ग करेगी ध्वस्त

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि विपक्षी दलों की सरकारें अपने राज्यों में कोरोना वैक्सीन का टीका लगाने से इनकार कर रही हैं। पंजाब, छत्तीसगढ़ और केरल की सरकारों ने कहा है कि वो अपने राज्य के लोगों को को-वैक्सीन का टीका नहीं लगवाएंगे। संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि विपक्षी दल कोरोना की शुरुआत से लेकर केवल राजनीति करके कंफ्यूजन पैदा कर रही है। बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि विपक्ष द्वारा शासित राज्यों छत्तीसगढ़, पंजाब और केरल ने कहा है कि वे को-वैक्सीन का टीकाकरण अपने राज्यों में नहीं करेंगे। जिस प्रकार की राजनीति विपक्षी दल कर रहे हैं, ये अवांछित है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept