ओवैसी ने ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट लीक होने पर खड़े किये सवाल, श्री कृष्ण जन्मस्थान को लेकर कही ये बात

Owaisi
ANI
अभिनय आकाश । May 19, 2022 7:41PM
श्री कृष्ण जन्मस्थान मामले पर में एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि जब दोनों पक्ष ने एग्रीमेंट कर लिया तो क्या उस समय श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ को ये बातें पता नहीं थी जो आज उठा रहे हैं। कोर्ट का जो अब आदेश आया है वो भी 1991 एक्ट के खिलाफ है।

ज्ञानवापी मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा दखल देते हुए वाराणसी की निचली अदालत को निर्देश दिया कि वह इस मामले में तब तक कार्यवाही को आगे न बढ़ाए, जब तक इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में नहीं हो जाती है। वहीं श्री कृष्ण जन्मस्थान मामले पर  सबसे पहला वाद दायर करने वाली रंजना अग्निहोत्री की अपील पर गुरुवार को जिला जज राजीव भारती की अदालत ने बृहस्पतिवार को सुनवाई योग्य मानते हुए दर्ज कर लिया। पूरे मामले को लेकर शुरुआती दौर से ही मुखरता से विरोध करने वाले एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने इसको लेकर अपना बयान दिया है। 

इसे भी पढ़ें: ज्ञानवापी मामला: SC के आदेश के बाद वाराणसी कोर्ट का फैसला, 23 मई को होगी मामले की सुनवाई

श्री कृष्ण जन्मस्थान मामले पर में एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि जब दोनों पक्ष ने एग्रीमेंट कर लिया तो क्या उस समय श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ को ये बातें पता नहीं थी जो आज उठा रहे हैं। कोर्ट का जो अब आदेश आया है वो भी 1991 एक्ट के खिलाफ है। आप कैसे तय करेंगे कि वो स्थान जन्मस्थान की जगह है या नहीं। हम उम्मीद करते है कि कल जब सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा वो काशी के लोवर कोर्ट के आदेश को स्टे देगा।

इसे भी पढ़ें: शिवलिंग के पक्ष में दी जा रहीं 5 दलीलें, कैसे 'नंदी' ने खोला ज्ञानवापी का रहस्य?

एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि ज्ञानवापी हो या मथुरा, अविश्वास का माहौल पैदा करना, मुस्लिम समुदाय के प्रति ज्यादा नफरत, हमारे हिंदू भाइयों में सुरक्षा की कमी और इस देश को पीछे ले जाने का विचार है।  इन लोगों के लिए कानून कोई मायने नहीं रखता। वे मुस्लिम लोगों की इज्जत लूटना चाहते हैं। आप कानून व्यवस्था का मजाक बना रहे हैं। जब एक और वादी अदालत में गया, तो अदालत ने कहा था कि नहीं, इसलिए आप एक अलग पक्ष बनाते हैं। ये सभी संघ परिवार से जुड़े हुए हैं। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने ज्ञानवापी रिपोर्ट मीडिया में लीक होने पर सवाल खड़े किये हैं। असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी सरकार से कहा है कि वह इस मामले की जांच कराये कि रिपोर्ट लीक कैसे हुई।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़