महाराष्ट्र राजनीतिक संकट पर आया ओवैसी का बयान, बोले- हम देख रहे वहां बंदरों का नाच हो रहा है

Owaisi
ANI
अंकित सिंह । Jun 25, 2022 5:37PM
महाराष्ट्र की राजनीतिक हलचल के बीच अब पहली बार एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का भी बयान सामने आ गया है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र की राजनीति में ओवैसी की सक्रियता ज्यादा है। महाराष्ट्र की राजनीतिक संकट पर जब ओवैसी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे इससे बारे में कुछ नहीं बोलना है।

महाराष्ट्र में राजनीतिक उठापटक के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है। शिवसेना से एकनाथ शिंदे के बगावत के बाद महा विकास आघाडी की सरकार अल्पमत में दिखाई दे रही है। हालांकि महा विकास आघाडी के नेताओं की ओर से दावा किया जा रहा है कि सरकार पूरी तरह से मजबूत और सुरक्षित है तथा बहुमत का फैसला विधानसभा में होगा। यही कारण है कि शिवसेना के नेता भी लगातार आत्मविश्वास से भरे दिखाई दे रहे हैं। जबकि एकनाथ शिंदे शिवसेना के 38 बागी विधायकों के साथ गुवाहाटी के होटल में आज पांचवे दिन भी मौजूद हैं। शिंदे गुट के बागी विधायकों का दावा है कि वे अभी भी शिवसैनिक है और बाला साहब ठाकरे के विचार पर आगे बढ़ रहे हैं। दूसरी ओर संजय राउत का कहना है कि असली शिवसेना हमारे पास है और बाला साहब ठाकरे के नाम का इस्तेमाल कोई नहीं कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: 'खत्म हो उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी', महाराष्ट्र संकट को लेकर नवनीत राणा ने अमित शाह से की यह मांग

ओवैसी का बयान

महाराष्ट्र की राजनीतिक हलचल के बीच अब पहली बार एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का भी बयान सामने आ गया है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र की राजनीति में ओवैसी की सक्रियता ज्यादा है। महाराष्ट्र की राजनीतिक संकट पर जब ओवैसी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे इससे बारे में कुछ नहीं बोलना है। वह महा विकास आघाडी की सरकार जाने, उनका यह अंदरूनी मामला है। वह देखें और फैसला करें। वहीं संजय राउत के सड़क पर आने वाले बयान पर ओवैसी ने कहा कि इस पर वही फैसला कर सकते हैं कि उन्हें आना चाहिए या नहीं आना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम महाराष्ट्र की राजनीति पर नजर रख रहे हैं। हम देख रहे हैं वहां पर जो बंदरों का नाच हो रहा है। एक झाड़ से दूसरे झाड़ पर कूद रहा है। कोई इस पेड़ से उस पेड़ पर आ रहा है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मैं देख रहा हूं तमाशा।

इसे भी पढ़ें: भाजपा नेता का दावा, महाराष्ट्र में केवल सत्ता परिवर्तन नहीं, बल्कि शिवसेना को और कमजोर करने की योजना

संजय राउत का बयान

संजय राउत ने कहा कि शिंदे या कोई और हो, किसी को कोई पार्टी बनाने से नहीं रोक सकता। लेकिन बाला साहब के नाम का इस्तेमाल कोई नहीं कर सकता। संजय राउत ने यह भी कहा कि हमने 6 प्रस्ताव पारित किए हैं और तय किया है कि शिवसेना बालासाहेब ठाकरे की हिंदुत्व विचारधारा का पालन करेगी और संयुक्त महाराष्ट्र की विचारधारा से समझौता नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि पार्टी से गद्दारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। सीएम ठाकरे के पास बागी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम उन लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे जिन्होंने अपनी आत्मकेंद्रित राजनीति के लिए बालासाहेब ठाकरे के नाम का इस्तेमाल किया है। जो चले गए हैं वे हमारे पितामह के नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़