पाकिस्तान को मिलेगा करारा जबाब : शेखावत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 17, 2019   16:12
पाकिस्तान को मिलेगा करारा जबाब : शेखावत

शेखावत एवं राजस्थान सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश ने शहीद भागीरथ सिंह के पिता परशुराम एवं उनकी पत्नी रंजना देवी समेत अन्य परिजनों को ढांढस बंधाया।

धौलपुर। केन्द्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा है कि पुलवामा में हुए कायराना आतंकी हमले का पाकिस्तान को करारा जबाब दिया जाएगा। शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुद इस बात का ऐलान किया है कि सेना खुद ही समय, स्थान तथा हमले का स्वरुप तैयार करें। केन्द्र सरकार ने सेना को जवाबी कार्रवाई करने की छूट दे दी है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को ऐसा जबाब मिलेगा कि अगली बार ऐसी कायराना हरकत करना तो दूर, आतंकी उसके बारे में सोचेंगे तक नहीं। शहीदों की शहादत का पूरा बदला लिया जाएगा। 

इसे भी पढ़े: राजनाथ ने ओडिशा में 1942 के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के भागीरथ सिंह के शनिवार को उनके पैतृक गांव जैतपुर में अंतिम संस्कार में भाग लेने पहुंचे शेखावत ने कहा कि पूरे देश को शहीदों पर गर्व है। उन्होंने कहा कि हम इस जन्म में इनका अहसान नहीं उतार सकते, लेकिन परिवार की मदद कर सकते हैं।

केन्द्र सरकार के पैकेज के अतिरिक्त अन्य प्रकार से भी मदद करेंगे। खेत में सिंचाई का प्रबंध करेंगे। इसके लिए केन्द्रीय भूजल बोर्ड या अन्य एजेंसी से भी मदद करवायेंगे। उन्होंने बताया कि शहीद परिवारों को केन्द्र की ओर से विशेष पैकेज दिया जाएगा। पूरा देश और केन्द्र सरकार शहीदों के परिवारों के साथ है। शेखावत एवं राजस्थान सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश ने शहीद भागीरथ सिंह के पिता परशुराम एवं उनकी पत्नी रंजना देवी समेत अन्य परिजनों को ढांढस बंधाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।