भारत से ऑस्ट्रेलिया जाने वाले लोगों को किया जाएगा कैद! इस बात से डरी मॉरिसन सरकार?

भारत से ऑस्ट्रेलिया जाने वाले लोगों को किया जाएगा कैद! इस बात से डरी मॉरिसन सरकार?

ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने भारत से आने वाले लोगों पर पाबंदी लगाई हुई थी। लेकिन अभी भी वहां से आने वाले लोगों को अनिवार्य रुप से क्वारंटाइन किया जा रहा है।

अगर आप भारत से ऑस्ट्रेलिया जा रहे हैं तो थोड़ा ठहर जाएं! ऑस्ट्रेलिया में भारत से आने वाले लोगों को डिटेंशन कैंप में कैद करने की तैयारी की जा रही है। जिसके पीछे की वजह है डर कोरोना के अति संक्रामक स्ट्रेन की चपेट में आने जाने का, दरअसल, वहां कि स्कॉट मॉरिसन सरकार को इस बात का भय है कि कहीं भारत से आने वाले लोगों के माध्यम से कोरोना का अति संक्रामक स्ट्रेन उनके देश में न दस्तक दे दे। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया में लागू किया गया अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंध सितंबर 2021 तक बढ़ा दिया गया है। ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने भारत से आने वाले लोगों पर पाबंदी लगाई हुई थी। लेकिन अभी भी वहां से आने वाले लोगों को अनिवार्य रुप से क्वारंटाइन किया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने कहा, सेबी के आदेश से मौजूदा योजनाओं पर असर नहीं

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ऑस्ट्रेलयाई राज्य वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के एक सरकारी प्रवक्ता के हवाले से बताया कि ऑस्ट्रेलिया भारत से लौटने वाले यात्रियों को क्रिसमस द्वीप पर एक डिटेंशन कैंप में रखने पर विचार कर रहा है। रूसी समाचार एजेंसी की खबर की माने तो राज्य सरकार की तरफ से कॉमनवेल्थ डिटेंशन फैसलिटी, रॉटनेस्ट द्वीप डिटेंसन फैसिलिटी भी शामिल है।  गौरतलब है कि इससे पहले भारत में कोरोना के दूसरे वेब को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया ने भारत से आने वाले यात्रियों के प्रवेश पर बैन लगा दिया था। भारतीय पर्यटक और भारत में रह रहे ऑस्ट्रेलियाई नागरिक जो यहां लौटना चाहते हैं, उनके ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश करने पर पाबंदी लगा दी गई थी। यहां तक कि यात्रा प्रतिबंध का उल्लंघन करने वालों को 500,000 डॉलर का जुर्माना और पांच साल की कैद की धमकी दी गई थी।  

 वैक्सीनेटेड ऑस्ट्रेलियाई लोगों के लिए सरकार बना रही है प्लान

ऑस्ट्रेलिया में इस बात को लेकर चर्चा हो रही है कि वहां की सरकार की तरफ से पूरी तरह वैक्सीनेट हुए अपने नागरिकों के लिए एक पायलट प्रोग्राम चलाया जाएगा। इसका मकसद अगस्त से वैक्सीनेटेड लोगों को विदेश यात्रा की अनुमति देना है। इससे कम खतरे वाले डेस्टिनेशन शामिल होंगे। वहीं देश लौटने पर इन्हें कोविड निगेटिव रिपोर्ट दिखाना होगा। वहीं, देश लौटने पर इन्हें कोविड निगेटिव रिपोर्ट दिखाना होगा। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में अभी तक लोगों को 52 लाख वैक्सीन डोज दी गई है। वहीं, अगर पूरी तरह से वैक्सीनेटेड लोगों की बात करें तो उनकी संख्या 6.52 लाख है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept