कोरोना संकट के बीच लोगों को विध्वंसकारी शक्तियों के षड्यंत्र से सावधान रहना चाहिए: आरएसएस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   17:10
कोरोना संकट के बीच लोगों को विध्वंसकारी शक्तियों के षड्यंत्र से सावधान रहना चाहिए: आरएसएस

देश में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के कारण अनेक राज्यों में गंभीर चुनौती उत्पन्न हो गई है। कई राज्यों में अस्पतालों में चिकित्सीय ऑक्सीजन की कमी के संकट का सामना सामना करना पड़ रहा है।

नयी दिल्ली।  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने लोगों से भारत विरोधी और विध्वंसकारी शक्तियों के षड्यंत्रों से सावधान रहने की अपील करते हुए दावा किया कि ऐसी ताकतें कोविड -19 की दूसरी लहर के कारण उत्पन्न प्रतिकूल परिस्थितियों का लाभ उठाकर देश में नकारात्मकता और अविश्वास का माहौल बना सकती हैं। आरएसएस के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेस होसबाले ने संघ और स्वयंसेवकों तथा सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों से इन चुनौतियों से निपटने में आगे आने को कहा। गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के कारण अनेक राज्यों में गंभीर चुनौती उत्पन्न हो गई है। कई राज्यों में अस्पतालों में चिकित्सीय ऑक्सीजन की कमी के संकट का सामना सामना करना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि देश में कोविड-19 के एक दिन में 3,46,786 नए मामले सामने आने के साथ शनिवार को संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,66,10,481 हो गए। वहीं, 2,624 संक्रमितों की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 1,89,544 हो गई। होसबोले ने कहा, ‘‘ ऐसीस्थिति मेंसंभव है कि भारत विरोधी शक्तियां लाभ उठाकर देश में नकारात्मकता और अविश्वास का वातावरण बनाए। ऐसे में लोगों को विध्वंसकारीशक्तियों के षड्यंत्रों से सावधान रहना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि आरएसएस कार्यकर्ता समाज की जरूरतों को पूरा करने के लिए देशभर में विभिन्न प्रकार की सेवाओं को सक्रिय रूप से चला रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।