गंगा यात्रा के स्वागत में खड़े लोगों ने पेश की हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल, लगाए भारत माता की जय के नारे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2020   20:22
गंगा यात्रा के स्वागत में खड़े लोगों ने पेश की हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल, लगाए भारत माता की जय के नारे

गंगा यात्रा के दूसरे दिन यात्रा हस्तिनापुर से चलकर बुलंदशहर पहुंची, इससे पहले मेरठ जिले की नगर पंचायत शाहजहंपुर में एक नई तस्वीर देखने को मिली। जहां हिन्दू और मुस्लिम समुदाय के लोगों ने गंगा यात्रा का स्वागत करते हुए भारत माता की जय के नारे लगाए। यहां 70 फीसदी मुस्लिम और 30 फीसदी हिन्दू आबादी है।

मेरठ। गंगा को लेकर अब केवल खानापूर्ति या हवाई बातें नहीं हो रही हैं, बल्कि वास्तविक धरातल पर भी एक मजबूत संरचना तैयार होती हुई, महसूस होने लगी है। प्रदेश की योगी सरकार की पांच दिवसीय गंगा यात्रा से समाज के सभी वर्गों के लोग जुड़ते नजर आ रहे हैं। इस यात्रा में हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द की अलग तस्वीर देखने को मिल रही है। जिस स्थान से यात्रा गुजर रही है, वहां हिन्दू और मुस्लिम समुदाय के लोग साथ में यात्रा पर पुष्प वर्षा कर रहे हैं।बता दें कि कल बिजनौर से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने और बलिया से राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने इसका इसका शुभारंभ किया था। बिजनौर से शुरू हुई गंगा यात्रा के स्वागत के लिए जगह-जगह भीड़ देखने को मिल रही है।

इसे भी पढ़ें: जानिए लखनऊ में ऐसी कौन-कौन सी जगह हैं, जो करती हैं पर्यटकों को आकर्षित

गंगा यात्रा के दूसरे दिन यात्रा हस्तिनापुर से चलकर बुलंदशहर पहुंची, इससे पहले मेरठ जिले की नगर पंचायत शाहजहंपुर में एक नई  तस्वीर देखने को मिली। जहां हिन्दू और मुस्लिम समुदाय के लोगों ने गंगा यात्रा का स्वागत करते हुए भारत माता की जय के नारे लगाए। कहने को यहां 70 फीसदी मुस्लिम और 30 फीसदी हिन्दू आबादी है। शाहजहांपुर हिन्दू मुस्लिम एकता के लिए हमेशा से जाना जाता रहा है।

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण तारीख को लेकर संशय बरकरार, अब रामनवमी से मंदिर निर्माण की चर्चाओं का जोर

गंगा यात्रा के स्वागत में मौजूद रिहान खान का कहना था कि उन्हें इस बात की बेहद खुशी है कि यात्रा उनके जिले से होकर गुजर रही है। उन्होंने इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने सबका साथ, सबका विकास के साथ प्रदेश को एक नई रफ्तार दी है।वहीं गंगा यात्रा के स्वागत में खड़े स्थानीय निवासी इबारत उल्लाह खान ने बताया कि गंगा की सफाई किसी भी वर्ग के लिए पुण्य से कम नहीं है। पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने गंगा मां की सफाई का बीड़ा उठाया है। इसके लिए मुख्यमंत्री को हम धन्यवाद कहना चाहते हैं। इस दौरान लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।