सिंघु बॉर्डर पर मचा घमासान, लखबीर के समर्थन में आए किसानों पर पुलिस ने किया बल प्रयोग

सिंघु बॉर्डर पर मचा घमासान, लखबीर के समर्थन में आए किसानों पर पुलिस ने किया बल प्रयोग
प्रतिरूप फोटो

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सिंघु बॉर्डर पर भारी संख्या पर लोगों के पहुंचने की जानकारी मिलते ही पुलिसबल की तैनाती की गई। इसके अलावा मामले को संभालने के लिए पुलिस को थोड़ा-बहुत बल का भी प्रयोग करना पड़ा। फिलहाल पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रास्ते को बंद कर दिया है।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन पिछले 10 महीने से जारी है। इसी बीच दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर के लिए भारी संख्या में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के किसान आए लेकिन इन किसानों को नरेला में रोक दिया गया। आपको बता दें कि सिंघु बॉर्डर पर मारे गए दलित लखबीर सिंह को लेकर एक बार फिर से मामला गर्मा गया। कुछ लोगों ने अचानक से बैरिकेडिंग को तोड़ने का प्रयास किया। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर पंजाब के युवक की हत्या अतिदुखद एवं शर्मनाक: मायावती 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सिंघु बॉर्डर पर भारी संख्या पर लोगों के पहुंचने की जानकारी मिलते ही पुलिसबल की तैनाती की गई। इसके अलावा मामले को संभालने के लिए पुलिस को थोड़ा-बहुत बल का भी प्रयोग करना पड़ा। फिलहाल पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रास्ते को बंद कर दिया है। 

इसे भी पढ़ें: सिंघू बॉर्डर लिंचिंग मामला: दो और आरोपियों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया; 4 अब तक गिरफ्तार 

लखबीर सिंह की हुई थी हत्या

कुछ वक्त पहले पंजाब के तरन तारन जिले के रहने वाले लखबीर सिंह की सिंघु बॉर्डर पर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। जिसका आरोप निहंगों पर है। इस सिलसिले में कई लोगों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन फिर भी बुधवार को अचानक से मामला गर्मा गया। एक तरफ किसान नेता इस घटना को केंद्र की साजिश बता रहे हैं तो दूसरी तरफ केंद्र किसान आंदोलन को हिंसक बता रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।