महबूबा मुफ्ती को कथित तौर पर किया गया नजरबंद ! उमर अब्दुल्ला ने सरकार पर साधा निशान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   13:56
  • Like
महबूबा मुफ्ती को कथित तौर पर किया गया नजरबंद ! उमर अब्दुल्ला ने सरकार पर साधा निशान

एनसी के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया कि बाधा खड़ी करना इस प्रशासन की नयी मानक संचालन प्रक्रिया है। उन्होंने मेरे पिता को प्रार्थना करने से रोकने के लिए हाल ही में ऐसा किया था।

श्रीनगर। नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा कि सरकार व्यक्तिगत स्वतंत्रता ऐसे दे रही है जैसे किसी पर कोई उपकार कर रही हो और अपनी मर्जी से इसे किसी को दे रही है और छीन रही है। साथ ही कहा कि न्यायपालिका का कोई हस्तक्षेप नहीं है। अब्दुल्ला का यह बयान पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और उनकी बेटी इल्तिजा मुफ्ती को कथित तौर पर नजरबंद किए जाने पर आया है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर प्रशासन का बड़ा आरोप, अब्दुल्ला का मकान अतिक्रमण वाली जमीन पर बना 

अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ‘‘ बाधा खड़ी करना इस प्रशासन की नयी मानक संचालन प्रक्रिया है। उन्होंने मेरे पिता को प्रार्थना करने से रोकने के लिए हाल ही में ऐसा किया था। सरकार व्यक्तिगत स्वतंत्रता ऐसे दे रही है जैसे कोई उपकार कर रही हो, और अपनी मर्जी से इसे किसी को दे रही है और किसी से छीन रही है और न्यायपालिका का कोई हस्तक्षेप नहीं है।’’ गौरतलब है कि पार्टी के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला को ईद-मिलाद-उन-नबी पर हजरतबल दरगाह पर जाने से रोका गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली में तापमान में 3 डिग्री की गिरावट, घने कोहरे से यातायात हुआ प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   11:49
  • Like
दिल्ली में तापमान में 3 डिग्री की गिरावट, घने कोहरे से यातायात हुआ प्रभावित

दिल्ली में न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। आईएमडी के अनुसार शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा ‘बेहद घना’, 51 से 200 मीटर के बीच ‘घना’, 201 से 500 के मीटर के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को ‘हल्का’ माना जाता है।

नयी दिल्ली। दिल्ली में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 4.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राष्ट्रीय राजधानी में कोहरे के कारण यातायात भी प्रभावित हुआ।भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी ने बताया कि हल्का कोहरा छाने से सफदरजंग और पालम में दृश्यता 350 मीटर दर्ज की गई। आईएमडी के अनुसार शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा ‘बेहद घना’, 51 से 200 मीटर के बीच ‘घना’, 201 से 500 के मीटर के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को ‘हल्का’ माना जाता है। नए पश्चिमी विक्षोभ के पश्चिमी हिमालय को प्रभावित करने से ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है। पुरवाई हवाएं चलने और बादल छाने से रविवार तक न्यूनतम तापमान के नौ डिग्री तक बढ़ने का अनुमान है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस कार्य समिति की बैठक आरंभ, नए अध्यक्ष को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना

आईएमडी के स्थानीय पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘ राष्ट्रीय राजधानी में पुरवाई हवाएं चलने लगी हैं। बादल छाने से शनिवार और रविवार को न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी।’’ पुरवाई हवाएं बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालय से आने वाली उत्तर पश्चिमी हवाओं के मुकाबले कम सर्द होती हैं। श्रीवास्तव ने बताया कि सोमवार से हालांकि न्यूनतम तापमान फिर चार डिग्री तक गिर सकता है। उन्होंने कहा,‘‘ पश्चिमी विक्षोभ से जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी का अनुमान है। बर्फ से ढंके पहाड़ों से आने वाली सर्द, शुष्क हवाओं से सोमवार तक तापमान में चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट आसकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में PM मोदी ने सुनाई टीम इंडिया के संघर्ष की दास्तां, युवाओं को दिया यह मंत्र

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 22, 2021   11:37
  • Like
तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में PM मोदी ने सुनाई टीम इंडिया के संघर्ष की दास्तां, युवाओं को दिया यह मंत्र

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां नहीं आई, हमारी बहुत बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत भी दर्ज की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैदान में डटे रहे।

गुवाहाटी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम की जमकर सराहना की और उनके संघर्ष को सभी के समक्ष रखा। उन्होंने छात्रों को आगे बढ़ने की प्रेरणा भी दी। उन्होंने कहा कि आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण है। आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। सबसे बड़ी बात आज से आपके कॅरियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है।  

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने PM मोदी के असम दौरे से पहले दागे 24 सवाल, कही यह अहम बात 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां नहीं आई, हमारी बहुत बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत भी दर्ज की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैदान में डटे रहे। चुनौतियां का हमारे युवा खिलाड़ियों ने सामना किया और उसका समाधान ढूंढा। कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था लेकिन हौसला उतना ही बुलंद दिखा। उन्हें जैसे ही मौका मिला उन्होंने इतिहास बना दिया। 

इसे भी पढ़ें: पत्रकारों और मीडियाकर्मियों को नि:शुल्क कोरोना टीका लगाने कमलनाथ ने की मांग 

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि भारतीय टीम ने अनुभवी टीम को पराजित कर दिया। युवा साथियों क्रिकेट के मैदान पर हमारे खिलाड़ियों की यह प्रतिभा सिर्फ खेल के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि एक लाइव लेशन भी है। पहला लेशन यह कि हमें विश्वास होना चाहिए। दूसरा यह कि हमें सकारात्मक विचारों के साथ आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि उसका परिणाम भी सकारात्मक आता है। तीसरा यह कि अगर आपके पास एक तरफ सेफ निकल जाने का विकल्प हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्प हो तो आपको जीत का विकल्प जरूर चुनना चाहिए और अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लगे तो उसमें कोई नुकसान नहीं है। रिस्क लेने से कोई नुकसान नहीं है। हमें अपने भीतर के असफलता के डर को बाहर निकालना होगा।

यहां सुने पूरा संबोधन: 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


कांग्रेस कार्य समिति की बैठक आरंभ, नए अध्यक्ष को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   11:32
  • Like
कांग्रेस कार्य समिति की बैठक आरंभ, नए अध्यक्ष को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना

कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडल्यूसी) की बैठक शुक्रवार को आरंभ हुई जिसमें पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडल्यूसी) की बैठक शुक्रवार को आरंभ हुई जिसमें पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट होने की संभावना है। सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में नए अध्यक्ष के चुनाव के साथ साथ किसान आंदोलन और कुछ अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। माना जा रहा है कि इस बैठक में अध्यक्ष के चुनाव को हरी झंडी दी जा सकती है और चुनाव तिथि का ऐलान भी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने कर्नाटक विस्फोट पर जताया दुख, बोले- इस तरह की घटनाओं की होनी चाहिए गहन जांच

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। बिहार विधानसभा चुनाव और कुछ राज्यों के उप चुनावों में कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल जैसे कुछ वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के सक्रिय अध्यक्ष की नियुक्ति की मांग फिर उठाई।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने असदुद्दीन ओवैसी को बताया भाजपा की 'बी टीम', बोलीं- बंगाल में नहीं होगा कोई असर

वैसे, कांग्रेस नेताओं का एक बड़ा धड़ा लंबे समय से इस बात की पैरवी कर रहा है कि राहुल गांधी को फिर से कांग्रेस की कमान संभालनी चाहिए। कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने हाल ही में कहा था कि कांग्रेस के 99.99 प्रतिशत लोग चाहते हैं कि राहुल गांधी फिर से उनका नेतृत्व करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept