CM केजरीवाल की केंद्र से मांग- बच्चों के लिए जल्द से जल्द फाइजर के टीके खरीदे जाएं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2021   13:02
CM केजरीवाल की केंद्र से मांग- बच्चों के लिए जल्द से जल्द फाइजर के टीके खरीदे जाएं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा,बच्चों के लिए जल्द से जल्द फाइजर के टीके खरीदे जाएं।सूत्रों ने बताया था कि अमेरिकी कंपनी ने भारतीय प्राधिकारियों को बताया कि उसका टीका 12 साल या उससे अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए उचित है और इसका दो से आठ डिग्री पर एक महीने के लिए भंडार किया जा सकता है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बच्चों को टीका लगाने के लिए जल्द से जल्द फाइजर का कोविड-19 रोधी टीका खरीदने की बृहस्पतिवार को मांग की। उन्होंने यह मांग तब की जब इससे पहले अमेरिकी दवा कंपनी ने भारत में अपने टीकों को जल्द से जल्द मंजूरी दिए जाने की मांग की। सूत्रों ने बताया था कि अमेरिकी कंपनी ने भारतीय प्राधिकारियों को बताया कि उसका टीका 12 साल या उससे अधिक आयु वर्ग के लोगों के लिए उचित है और इसका दो से आठ डिग्री पर एक महीने के लिए भंडार किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: किसान शिविर पर हमले की एसआईटी जांच की मांग पर दिल्ली HC का केन्द्र और दिल्ली सरकार से जवाब तलब

केजरीवाल ने कंपनी द्वारा जल्द ही इसे मंजूरी दिए जाने संबंधी एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘‘हमें अपने बच्चों के लिए जल्द से जल्द इस टीके को खरीदना चाहिए।’’ दिल्ली के मुख्यमंत्री आगामी महीनों में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का बच्चों पर असर पड़ने की विशेषज्ञों की आशंका का हवाला देते हुए टीकों के उचित विकल्प तलाशने के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध करते रहे हैं। दिल्ली सरकार ने केंद्र को यह भी सुझाव दिया कि अगर वह 12वीं कक्षा की बोर्ड की परीक्षा कराने का फैसला करती है तो छात्रों तथा शिक्षकों को टीके लगाए जाए। फाइजर ने हाल ही में भारत सरकार के अधिकारियों के साथ बातचीत की थी। उसने जुलाई और अक्टूबर के बीच टीकों की पांच करोड़ खुराक देने की पेशकश की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।