सहायक प्रोफेसर पद पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की अनिवार्यता की तारीख बढाई गयी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 13, 2021   05:30
सहायक प्रोफेसर पद पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की अनिवार्यता की तारीख बढाई गयी
प्रतिरूप फोटो

‘विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर विश्वविद्यालयों के विभागों में सहायक प्रोफेसरों की सीधी भर्ती के लिए योग्यता के रूप में पीएचडी की अनिवार्यता के संबंध में तारीख को एक जुलाई 2021 से बढ़ाकर एक जुलाई 2023 करने का निर्णय लिया है।’’

नयी दिल्ली| यूजीसी ने विश्वविद्यालयों में सहायक प्रोफेसरों की सीधी भर्ती के लिए योग्यता के रूप में पीएचडी की अनिवार्यता को लेकर तिथि आगे बढ़ा दी है। यह फैसला कोविड-19 महामारी के मद्देनजर लिया गया है।

यूजीसी द्वारा जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘‘विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर विश्वविद्यालयों के विभागों में सहायक प्रोफेसरों की सीधी भर्ती के लिए योग्यता के रूप में पीएचडी की अनिवार्यता के संबंध में तारीख को एक जुलाई 2021 से बढ़ाकर एक जुलाई 2023 करने का निर्णय लिया है।’’

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तानी आतंकवादी गिरफ्तार, फर्जी पहचान पत्र पर 10 सालों से रह रहा था: पुलिस

दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक एसोसिएशन (डूटा) ने इस फैसले का स्वागत किया है। डूटा अध्यक्ष राजीव राय ने कहा कि यह फैसला विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों में तदर्थ शिक्षकों के लिए बड़ी राहत है। दिल्ली विश्वविद्यालय ने 251 पदों पर रिक्तियों का विज्ञापन दिया है। डूटा की कोषाध्यक्ष आभा देव हबीब ने कहा कि शिक्षकों के निकाय ने नियुक्ति और पदोन्नति से संबंधित उन सभी खंडों में छूट का आह्वान किया था, जहांपीएचडी को अनिवार्य कर दिया गया था।

इसे भी पढ़ें: प्रकाश सिंह मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश केंद्रशासित प्रदेशों के लिए नहीं हैं : अदालत





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।