राज्यसभा सांसद वीरेंद्र कुमार के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, कहा- गरीबों और वंचितों के लिए उठाते थे आवाज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   12:32
राज्यसभा सांसद वीरेंद्र कुमार के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, कहा- गरीबों और वंचितों के लिए उठाते थे आवाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं राज्यसभा सदस्य एम पी वीरेंद्र कुमार जी के निधन से दु:खी हूं। उन्होंने एक प्रभावी विधायक एवं सांसद के रूप में अपनी पहचान बनाई।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा सदस्य एवं मलयालम के अग्रणी दैनिक अखबार ‘मातृभूमि’ के प्रबंध निदेशक एम पी वीरेंद्र कुमार के निधन पर शुक्रवार को शोक जताते हुए कहा कि वह गरीबों और वंचितों के लिए आवाज उठाने में यकीन रखते थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री और समाचार एजेंसी ‘प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया’ के निदेशक मंडल के सदस्य वीरेंद्र कुमार का दिल का दौरा पड़ने से बृहस्पतिवार को निधन हो गया। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘मैं राज्यसभा सदस्य एम पी वीरेंद्र कुमार जी के निधन से दु:खी हूं। उन्होंने एक प्रभावी विधायक एवं सांसद के रूप में अपनी पहचान बनाई।’’ उन्होंने कहा कि वीरेंद्र कुमार गरीबों एवं वंचितों के लिए आवाज उठाने में यकीन रखते थे। 

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा सांसद और मातृभूमि के MD वीरेंद्र कुमार का निधन, उपराष्ट्रपति नायडू ने शोक जताया 

मोदी ने कहा, ‘‘मैं उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं। ओम शांति।’’ वीरेंद्र कुमार 1987 में केरल विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। वह दो बार लोकसभा के लिए भी निर्वाचित हुए थे। मार्च 2018 में वह केरल से राज्यसभा के लिए निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में निर्वाचित हुए थे। उन्हें वाम लोकतांत्रिक मोर्चे का समर्थन प्राप्त था। वीरेंद्र कुमार समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के तीन बार अध्यक्ष (चेयरमैन) रह चुके थे। वह समाचार एजेंसी के निदेशक भी रहे थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।