राज्यसभा सांसद और मातृभूमि के MD वीरेंद्र कुमार का निधन, उपराष्ट्रपति नायडू ने शोक जताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   09:38
राज्यसभा सांसद और मातृभूमि के MD वीरेंद्र कुमार का निधन, उपराष्ट्रपति  नायडू ने शोक जताया

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘‘उनके लेखन में मानवाधिकार और पर्यावरण संरक्षण के विषय शामिल रहते थे। वह हमेशा वंचित और हाशिए पर पड़े लोगों के हितों में काम करने के लिए प्रतिबद्ध रहते थे।’’

नयी दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने राज्यसभा सदस्य और मलयालम के अग्रणी दैनिक अखबार मातृभूमि के प्रबंध निदेशक एम पी वीरेंद्र कुमार के निधन पर शुक्रवार को शोक जताते हुए कहा कि उन्होंने मीडिया और पत्रकारिता में बहुमूल्य योगदान दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री और समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया के निदेशक मंडल के सदस्य वीरेंद्र कुमार का दिल का दौरा पड़ने से बृहस्पतिवार को निधन हो गया। 

इसे भी पढ़ें: वाईएसआर कांग्रेस झूठे मामलों में फंसा कर नहीं हिला सकती टीडीपी की नींव: चंद्रबाबू नायडू

राज्यसभा के सभापति नायडू ने कहा, ‘‘वह बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वरिष्ठ नेता होने के साथ ही एक कुशल पत्रकार और सफल लेखक भी थे।’’ उन्होंने कहा कि मातृभूमि प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग लिमिटेड का अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक रहते हुए उन्होंने मीडिया और पत्रकारिता में बहुमूल्य योगदान दिया। उपराष्ट्रपति ने कहा कि वीरेंद्र कुमार ने कई किताबें लिखीं और प्रतिष्ठित केंद्र साहित्य अकादमी पुरस्कार समेत कई सम्मान प्राप्त किए। 

इसे भी पढ़ें: लोकसभा अध्यक्ष ने की हाउस पैनल प्रणाली की समीक्षा की मांग, 1993 में में हुई थी शुरुआत

नायडू ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘‘उनके लेखन में मानवाधिकार और पर्यावरण संरक्षण के विषय शामिल रहते थे। वह हमेशा वंचित और हाशिए पर पड़े लोगों के हितों में काम करने के लिए प्रतिबद्ध रहते थे।’’ उन्होंने कहा कि कुमार के निधन से राष्ट्र ने एक महान नेता और सच्चा देशभक्त खो दिया। नायडू ने कहा, ‘‘शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें। ओम शांति।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।