PM मोदी ने अर्जुन सहायक परियोजना का किया उद्धाटन, बोले- हम करते हैं समाधान की राष्ट्रनीति

PM मोदी ने अर्जुन सहायक परियोजना का किया उद्धाटन, बोले- हम करते हैं समाधान की राष्ट्रनीति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महोबा में कहा कि किसानों को हमेशा समस्याओं में उलझाए रखना ही कुछ राजनीतिक दलों का आधार रहा है। ये समस्याओं की राजनीति करते हैं और हम समाधान की राष्ट्रनीति करते हैं। केन-बेतवा लिंक का समाधान भी हमारी ही सरकार ने निकाला है। सभी पक्षों से संवाद करके रास्ता निकाला है।

महोबा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जनपद महोबा, हमीरपुर, बांदा व ललितपुर में 3,240 करोड़ रुपए की अर्जुन सहायक परियोजना, भावनी बांध परियोजना, रतौली बांध परियोजना, मसगांव-चिल्ली स्प्रिंकलर परियोजना का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि महोबा की ऐतिहासिक धरती पर आकर एक अलग ही अनुभूति होती है। इस समय हम देश की आज़ादी और राष्ट्र निर्माण में जनजातिय साथियों के योगदान को समर्पित जनजातीय गौरव सप्ताह भी मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुलामी के उस दौर में भारत में नई चेतना जगाने वाले गुरुनानक देव जी का आज प्रकाश पर्व भी है। मैं देश और दुनिया के लोगों को गुरु पूरब की भी शुभकामनाएं देता हूं। आज ही भारत की वीर बेटी, बुंदेलखंड की शान, वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की जयंती भी है। 

इसे भी पढ़ें: मेरठ में धरने पर बैठे किसानो ने कहा की कृषि कानून के संसद में रिपील होने तक घर वापसी नहीं 

प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते 7 वर्षों में हम कैसे सरकार को दिल्ली के बंद कमरों से निकालकर देश के कोने-कोने में लाए हैं। महोबा, इसका साक्षात गवाह है। ये धरती ऐसी योजनाओं, ऐसे फैसलों की साक्षी रही है जिन्होंने देश की गरीब, माताओं-बहनों के जीवन में बड़े बदलाव किए हैं। उन्होंने कहा कि कुछ वक्त पहले यहीं से उज्ज्वला योजना के दूसरे चरण की शुरुआत की थी। कुछ वर्ष पहले मैंने महोबा से ही देश की मुस्लिम बहनों से वादा किया था कि मैं उन्हें तीन तलाक की कुप्रथा से मुक्ति दिलाऊंगा। ये वादा भी पूरा हो चुका है।

माफियाओं पर चल रहा बुलडोजर

उन्होंने कहा कि दिल्ली और उत्तर प्रदेश में लंबे समय तक शासन करने वालों ने बारी-बारी से बुंदेलखंड को उजाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी। यहां के जंगलों, संसाधनों को कैसे माफिया के हवाले किया गया, ये किसी से छिपा नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अब इन्हीं माफियाओं पर बुलडोजर चल रहा है, तो कुछ लोग हाय-तौबा मचा रहे हैं। ये लोग कितनी भी तौबा मचा लें, यूपी के विकास के काम, बुंदेलखंड के विकास के काम रुकने वाले नहीं हैं। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, बोलीं- आपकी नीयत और बदलते रुख पर विश्वास करना मुश्किल 

हम करते हैं समाधान की राष्ट्रनीति

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों को हमेशा समस्याओं में उलझाए रखना ही कुछ राजनीतिक दलों का आधार रहा है। ये समस्याओं की राजनीति करते हैं और हम समाधान की राष्ट्रनीति करते हैं। केन-बेतवा लिंक का समाधान भी हमारी ही सरकार ने निकाला है। सभी पक्षों से संवाद करके रास्ता निकाला है। केन-बेतवा लिंक से भी भविष्य में यहां के लाखों किसानों को लाभ होने वाला है। योगी सरकार ने बीते साढ़े चार साल में बुंदेलखंड में पानी की अनेकों परियोजनाओं पर काम शुरू कराया है।

उन्होंने कहा कि साथियों में गुजरात से आता हूं और पहले वहां की परिस्थितियां बुंदेलखंड से जरा भी अलग नहीं थी। इसीलिए मैं आपकी परेशानी को समझता हूं। मां नर्मदा के आशीर्वाद से, सरदार सरोवर बांध के आर्शीवाद से गुजरात के कच्छ तक पानी पहुंच रहा है। जैसी सफलता हमने गुजरात में पाई वैसी ही सफलता बुंदेलखंड में पाने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि परिवारवादियों की सरकारों ने दशकों तक उत्तर प्रदेश के अधिकतर गांवों को प्यास रखा है। कर्मयोगियों की सरकारों ने सिर्फ 2 साल के भीतर ही 30 लाख परिवारों को उत्तर प्रदेश में नल से जल दिया है। परिवारवादियों की सरकारों ने बच्चों को, बेटियों को स्कूलों में अलग शौचालय, पीने की सुविधाओं से वंचित रखा लेकिन कर्मयोगियों की डबल इंजन की सरकार ने बेटियों के लिए अलग से शौचालय बनाए।  

इसे भी पढ़ें: कृषि कानून: CM योगी ने PM मोदी के फैसले का किया स्वागत, बोले- लोकतंत्र में नहीं कर सकते संवाद की अनसुनी 

प्रधानमंत्री ने कहा कि दशकों तक बुंदेलखंड के लोगों ने लूटने वाली सरकारें देखी हैं, पहली बार बुंदेलखंड के लोग यहां के विकास के लिए काम करने वाली सरकार देख रहे हैं। इस कटु सत्य को कोई भुला नहीं सकता है कि वो उत्तर प्रदेश को लूटते नहीं थकते थे और हम काम करते-करते नहीं थकते हैं।

यहां सुने प्रधानमंत्री का पूरा संबोधन:-





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।