PM मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को दी श्रद्धांजलि, बोले- देश को सामर्थ्यवान बनाने में समर्पित कर दिया अपना जीवन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 15, 2021   10:30
PM मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को दी श्रद्धांजलि, बोले- देश को सामर्थ्यवान बनाने में समर्पित कर दिया अपना जीवन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट में कहा कि मिसाइल मैन के रूप में विख्यात देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम जी को उनकी जयंती पर सादन नमन। उन्होंने अपना जीवन भारत को सशक्त, समृद्ध और सामर्थ्यवान बनाने में समर्पित कर दिया। देशवासियों के लिए वह हमेशा प्रेरणास्रोत बने रहेंगे।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने अपना जीवन भारत को सशक्त, समृद्ध और सामर्थ्यवान बनाने में समर्पित कर दिया तथा देशवासियों के लिए वह हमेशा प्रेरणास्रोत बने रहेंगे। मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘मिसाइल मैन के रूप में विख्यात देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम जी को उनकी जयंती पर सादन नमन। उन्होंने अपना जीवन भारत को सशक्त, समृद्ध और सामर्थ्यवान बनाने में समर्पित कर दिया। देशवासियों के लिए वह हमेशा प्रेरणास्रोत बने रहेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: दो परमाणु वैज्ञानिकों की कहानी, एक ने अपने वतन का मान बढ़ाया दूसरे ने गोपनीय फाइलें बेच देश का नाम मिट्टी में मिलाया 

कलाम 2002 से 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति रहे और सादे रहन-सहन तथा पक्षपात रहित आचरण के लिए विभिन्न लोगों तथा राजनीतिक दलों के बीच उनका काफी सम्मान किया जाता है। उन्हें राष्ट्रपति भवन का द्वार आम जनता के लिए खोलने का श्रेय भी दिया जाता है और उन्हें स्नेहपूर्वक ‘‘जनता का राष्ट्रपति’’ कहा जाता है। कलाम का 2015 में निधन हो गया था और देश के मिसाइल कार्यक्रमों के विकास में उनकी भूमिका के लिए उन्हें ‘‘भारत का मिसाइल मैन’’ भी कहा जाता है। मोदी ने अपने मंत्रिमंडल के सहयोगी महेन्द्रनाथ पांडे और मुख्तार अब्बास नकवी को भी उनके जन्मदिन पर बधाई दी तथा सरकार में उनके काम की सराहना की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।