नेशनल लाइब्रेरी में नेताजी की जयंती पर कार्यक्रम, PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि

नेशनल लाइब्रेरी में नेताजी की जयंती पर कार्यक्रम, PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि

धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोलकाता में नेशनल लाइब्रेरी का दौरा किया। उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को पुष्प अर्पित किए। पीएम मोदी न सिर्फ नेशनल लाइब्रेरी का भ्रमण किया बल्कि नेताजी की जीवन से जुड़ी पेंटिंग्स, उनसी जुड़ी किताबों को देखा।

''तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा'' ये महज एक लाइन नहीं है, ये वो जज्बा है कि देश के लिए जान क्या चीज है।  ऐसे व्यक्ति की कहानी जो न सिर्फ आजादी के लिए लड़ते हुए अमिट छाप छोड़ गए, बल्कि न जाने कितने युवाओं में वो आग भर गए कि इस देश के लिए हंसते-हंसते जान की कुर्बानी देना क्या होता है। नेताजी जिन्होंने अपनी नौकरी छो़ड़ दी उन्होंने ये कहते हुए कि मैं अंग्रेजों के लिए नौकरी नहीं करूंगा। मैं अपने देश अपनी धरती की आजादी के लिए अपनी जिंदगी झोंक दूंगा।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता पहुंचे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोलकाता में नेशनल लाइब्रेरी का दौरा किया। उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को पुष्प अर्पित किए। पीएम मोदी न सिर्फ नेशनल लाइब्रेरी का भ्रमण किया बल्कि नेताजी की जीवन से जुड़ी पेंटिंग्स, उनसी जुड़ी किताबों को देखा जो इतिहास के पन्नों में अभी तक दबें हैं। एक गार्डन में यह आयोजन किया गया है।

इसे भी पढ़ें: नेताजी सुभाष चंद्र बोस के भीतर बाल्यकाल से ही देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा था

जिस नेताजी भवन में पीएम मोदी पधारे दरअसल 1940 में अंग्रेजों ने नेताजी को  देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करके गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया। नेताजी ने जेल में खाना छोड़ दिया। खाना छोड़ने के बाद नेताजी की तबीयत बहुत बिगड़ने लगी तब जाकर अंग्रेजों को उन्हें उनके घर छोड़ दिया। लेकिन वहां पर जबरदस्त पहड़ा था, कई जासूस भी छोड़े गए थे। लेकिन सबको चकमा देकर सुभाष चंद्र बोस देश के वो स्वतंत्रता सेनानी बने जिन्होंने अनेकों युवकों को आजादी की लड़ाई में शामिल किया कि देश उनके कर्तिमान, शौर्य को हमेशा सुनहरे अक्षरों में लिखेगा। आज नेशनल लाइब्रेरी में नही तस्वीर वही पूरी कहानी प्रधानमंत्री के सामने रखी गई। 






नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...