'आपातकाल के दौरान हम सबने संविधान को बचाने की लड़ाई लड़ी', मोदी बोले- हमारे लिए राष्ट्र प्रथम

modi live
Twitter @ BJP
अंकित सिंह । Jul 25, 2022 4:47PM
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में जुड़े प्रधानमंत्री ने कहा कि चौधरी हरमोहन सिंह यादव जी ने अपना राजनीतिक जीवन ग्राम पंचायत से शुरु किया था। उन्होंने ग्राम पंचायत से राज्य सभा तक का सफर तय किया। वो प्रधान बने, विधान परिषद सदस्य बने, सांसद बने। राजनीति के शिखर तक पहुंचकर भी हरमोहन सिंह जी की प्राथमिकता समाज ही रहा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिवंगत हरमोहन सिंह यादव की 10वीं पुण्यतिथि के अवसर पर कानपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान प्रधानमंत्री ने आज, हमारे देश के लिए एक बहुत बड़ा लोकतांत्रिक अवसर भी है। आज हमारी नई राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण हुआ है। आजादी के बाद पहली बार आदिवासी समाज से एक महिला राष्ट्रपति देश का नेतृत्व करने जा रही हैं। उन्होंने कहा कि लोहिया जी के विचारों को उत्तर प्रदेश और कानपुर की धरती से हरमोहन सिंह यादव जी ने अपने लंबे राजनैतिक जीवन में आगे बढ़ाया। उन्होंने प्रदेश और देश की राजनीति में जो योगदान किया, समाज के लिए जो कार्य किया, उनसे आने वाली पीढ़ियों को मार्गदर्शन मिल रहा है।

इसे भी पढ़ें: संसद के दोनों सदनों में आज छठे दिन भी विपक्ष का हंगामा जारी, सरकार ने कहा- हम चर्चा के लिए तैयार

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में जुड़े प्रधानमंत्री ने कहा कि चौधरी हरमोहन सिंह यादव जी ने अपना राजनीतिक जीवन ग्राम पंचायत से शुरु किया था। उन्होंने ग्राम पंचायत से राज्य सभा तक का सफर तय किया। वो प्रधान बने, विधान परिषद सदस्य बने, सांसद बने। राजनीति के शिखर तक पहुंचकर भी हरमोहन सिंह जी की प्राथमिकता समाज ही रहा। मोदी ने कहा कि हरमोहन सिंह यादव जी ने न केवल सिख संहार के खिलाफ राजनैतिक स्टैंड लिया, बल्कि सिख भाई-बहनों की रक्षा के लिए वो सामने आकर लड़े। अपनी जान पर खेलकर उन्होंने कितने ही सिख परिवारों की, मासूमों की जान बचाई। उन्होंने कहा कि आपातकाल के दौरान जब देश के लोकतंत्र को कुचला गया तो सभी प्रमुख पार्टियों ने, हम सबने एक साथ आकर संविधान को बचाने के लिए लड़ाई भी लड़ी। चौधरी हरमोहन सिंह यादव जी भी उस संघर्ष के एक जुझारू सैनिक थे। हमारे यहां देश और समाज के हित, विचारधाराओं से बड़े रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: आदित्य ठाकरे को करारा झटका! मोदी सरकार के रडार पर आया ये फैसला, जानें आखिर मामला क्या है?

मोदी ने कहा कि हाल के समय में विचारधारा या राजनीतिक स्वार्थों को समाज और देश के हित से भी ऊपर रखने का चलन शुरू हुआ है। कई बार तो सरकार के कामों में विपक्ष के कुछ दल इसलिए अड़ंगे लगाते हैं क्योंकि जब वो सत्ता में थे, तो अपने लिए फैसले वो लागू नहीं कर पाए। उन्होंने कहा कि ये हर एक राजीतिक पार्टी का दायित्व है कि दल का विरोध, व्यक्ति का विरोध देश के विरोध में न बदले।जब भारत-पाकिस्तान का युद्ध हुआ था तब सभी प्रमुख पार्टी सरकार के साथ खड़ी हो गई। जब देश ने पहला परमाणु परीक्षण किया तब भी सभी प्रमुख पार्टी सरकार के साथ खड़ी हो गई। विचारधाराओं का अपना स्थान है और होना चाहिए। राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं हैं, तो हो सकती हैं। लेकिन, देश सबसे पहले है, समाज सबसे पहले है। राष्ट्र प्रथम है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़